मुथूट फाइनेंस लिमिटेड एनसीडी के जरिए पैसे जुटायेगा

img

कोच्चि
मुथूट फाइनेंस लिमिटेड ने अपने सिक्योर्ड रिडीमेबल नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर्स के पब्लिक इश्यू के 11वें सीरीज की घोषणा की है। इश्यू का आधार आकार ₹ 100 करोड़ है जिसके साथ ₹ 790 करोड़ की ट्रैंचे सीमा तक (‘‘ट्रैंचे प्ट इश्यू’’) कुल ₹ 690 करोड़ के ओवरसब्सक्रिप्शन को बनाये रखने का विकल्प है। यह इश्यू 29 नवंबर, 2019 को खुल रहा है और 24 दिसंबर, 2019 को बंद हो जायेगा। हालांकि, निदेशक मंडल या एनसीडी समिति के निर्णयानुसार इसे बंद किये जाने की तिथि को घटाया बढ़ाया जा सकता है।
क्रिसिल लिमिटेड और इक्रा लिमिटेड नामक दो क्रेडिट रेटिंग एजेंसीज ने इस इश्यू की रेटिंग की है। दोनों ही एजेंसियों ने इश्यू के तहत पेश किये जाने वाले डिबेंचर्स के लिए ‘ ।।ध्स्टेबल’ की दीर्घकालिक डेब्ट रेटिंग दी है। यह रेटिंग स्केल समयबद्ध तरीके से वित्तीय देनदारियों के पालन की दृष्टि से अत्यधिक सुरक्षित और बेहद कम क्रेडिट जोखिम को बताता है। ये एनसीडी बीएसई पर सूचीबद्ध किये जाने के लिए प्रस्तावित हैं। पहले आएं, पहले पाएं आधार पर आवंटन किया जायेगा। प्रत्याभूत एनसीडी के दस निवेश विकल्प हैं - ‘मासिक’ या ‘वार्षिक’ ब्याज भुगतान बारंबारता या ‘मैच्योरिटी पर रिडेंप्शन’ भुगतान के साथ प्रभावी ब्याज जो 9.25 प्रतिशत से 10.00 प्रतिशत तक है। मुथूट फाइनेंस लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, श्री जॉर्ज एलेक्जेंडर मुथूट ने कहा, ‘‘इस इश्यू से कंपनी को दीर्घकालिक फंड्स हासिल करने और ऋण बास्केट को विविधीकृत करने में मदद मिलेगी। पिछले एनसीडी इश्यूज को बाजार से अच्छा प्रतिसाद मिला था और उनका ओवर-सब्सक्रिप्शन हुआ था। उन्होंने आगे बताया, ‘‘यह रिटेल एवं हाई नेटवर्थ वाले व्यक्तिगत निवेशकों, जिन्हें हमने कुल इश्यू आकार का 80 प्रतिशत आवंटित किया है, को स्थायी एवं आकर्षक दीर्घकालिक रिटर्न का अवसर प्रदान करता है, जब निवेशों के लिए मात्र सीमित तुलनीय वैकल्पिक अवसर हों। इस इश्यू के जरिए जुटाये गये फंड्स का उपयोग प्राथमिक रूप से कंपनी की ऋण गतिविधियों के लिए किया जायेगा। इश्यू के लीड मैनेजर्स एडेलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड और ए.के. कैपिटल सर्विसेज लिमिटेड हैं। आईडीबीआई ट्रस्टीशिप सर्विसेज लिमिटेड, इश्यू का डिबेंचर ट्रस्टी है। लिंक इनटाइम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, इश्यू का रजिस्ट्रार है।

मुथूट फाइनेंस लिमिटेड के विषय मेंः
मुथूट फाइनेंस लिमिटेड, लोन पोर्टफोलियो की दृष्टि से भारत की सबसे बड़ी गोल्ड फाइनेंसिंग कंपनी है। यह कंपनी ‘‘सिस्टमेटिकली इंपोर्टेंट नॉन-डिपॉजिट टेकिंग एनबीएफसी’’ है, जिसका मुख्यालय केरल में है। मुथूट फाइनेंस का परिचालन इतिहास 80 वर्ष से अधिक समय पुराना है। एम जॉर्ज मुथूट (हमारे प्रवर्तकों के जनक) ने अपने पिता, निनान मथाई मुथूट द्वारा 1887 में स्थापित एक व्यापारिक कारोबार की विरासत को आगे बढ़ाते हुए 1939 में गोल्ड लोन बिजनेस की स्थापना की। कंपनी के इक्विटी शेयर्स वर्ष 2011 से नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया और बीएसई लिमिटेड पर सूचीबद्ध हैं। भारत के 23 राज्यों, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली और पांच केंद्रशासित प्रदेशों में इसकी 4500 से अधिक शाखाएं हैं। यह गोल्ड लोन्स और अन्य उत्पादों के लिए हर रोज लगभग 2,00,000 से अधिक ग्राहकों को सेवा प्रदान करता है। इसके नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर्स के रिटेल निवेशकों की संख्या 2,00,000 से अधिक है। इसके परिचालन में 24,644 कर्मचारी शामिल हैं। 31 मार्च, 2019 को, इसकी ऋण परिसंपत्तियां 34246 करोड़ रु. की रहीं और वित्त वर्ष’19 में इसने 1,972 करोड़ रु. का कर-पश्चात मुनाफा कमाया। 30 सितंबर, 2019 को, इसका नेटवर्थ 10,598 करोड़ रु. रहा और इसका पूंजी पर्याप्तता अनुपात 27.11 प्रतिशत रहा। 30 सितंबर, 2019 को समाप्त छमाही में कर-पश्चात मुनाफा 1,388 करोड़ रु. रहा। 

whatsapp mail