बीएमएल मुंजाल यूनिवर्सिटी ने नए स्पेशलाइजेशन अंडरग्रेजुएट पाठ्यक्रम लॉन्च किए

img

स्पेशलाइज्ड स्किल की बढ़ती मांग को देखते हुए शुरू किए बीएससी (ऑनर्स) इकोनॉमिक्स, बिजनेस एनालिटिक्स में बीबीए, बीबीए-एलएलबी, बीए-एलएलबी पाठ्यक्रम

जयपुर
हीरो ग्रुप की नॉट-फॉर-प्रॉफिट यूनिवर्सिटी बीएमएल मुंजाल यूनिवर्सिटी (बीएमयू) ने आज चार नए अंडरग्रेजुएट पाठ्यक्रमों - बीएससी (ऑनर्स) इकोनॉमिक्स, बिजनेस एनालिटिक्स में स्पेशलाइजेशन के साथ बीबीए, बीबीए-एलएलबी और बीए-एलएलबी की शुरुआत का एलान किया है। स्पेशलाइज्ड स्किल की बढ़ती मांग और बाजार व अर्थव्यवस्था की बदलती तस्वीर को देखते हुए इन नए पाठ्यक्रमों को तैयार किया गया है। बीएमएल मुंजाल यूनिवर्सिटी का मानना है कि शिक्षा ऐसी होनी चाहिए जो छात्रों को सक्षम बनाए और उन्हें समाज में अर्थपूर्ण सहयोग करने व भविष्य के बदलते बाजार में खुद को ढालने में मददगार हो। नए पाठ्यक्रमों और स्पेशलाइजेशन को नवोन्मेषी शैक्षणिक प्रक्रियाओं के आधार पर तैयार किया गया है, जो केवल ज्ञान देने के बजाय प्रत्यक्ष अनुभव पर ज्यादा आधारित हैं। प्रयोग आधारित शैक्षणिक वातावरण पांच मुख्य थीम पर टिका है - 1. क्रिएटिव विजुअलाइजेशन ऑफ प्रैक्टिस; 2. रोल-प्ले एवं प्रोटोटाइपिंग; 3. वर्चुअल टीम में कोलैबोरेशन व कामकाज; 4. एथिकल लीडरशिप केंद्रित उद्यमिता पहल; 5. टेक्नोलॉजी आधारित गेमिफिकेशन। बीएमएल मुंजाल यूनिवर्सिटी में स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के डीन डॉ. विशाल तलवार ने कहा, हमारे नए पाठ्यक्रमों को डायनामिक वर्कप्लेस की चुनौतियों के अनुरूप छात्रों के लिए जरूरी कौशल की जरूरत को ध्यान में रखते हुए और संबंधित क्षेत्रों में उनके लिए करियर के अवसरों को बेहतर बनाने के लक्ष्य के साथ तैयार किया गया है। बीएमयू के प्रयोग आधारित शैक्षणिक फॉर्मेट में छात्रों को सैद्धांतिक व प्रायोगिक ज्ञान के अतिरिक्त विभिन्न प्रोजेक्ट पर काम करने का मौका भी मिलता है। हमारे पास यूनिवर्सिटी को लेकर महत्वाकांक्षी योजनाएं हैं और हम आगे भी अपने यहां से सर्वश्रेष्ठ छात्र निकालते रहने की उम्मीद करते हैं।

बिजनेस एनालिटिक्स में स्पेशलाइजेशन के साथ बीबीए
दुनिया डिजिटलाइजेशन की ओर बढ़ रही है, ऐसे में कारोबार से जुड़े फैसले करने के लिए डाटा के 3 वी यानी वॉल्युम, वैरायटी और वेलोसिटी को एनालाइज करने वालों की बहुत जरूरत है। बीएमयू में बीबीए पाठ्यक्रम का लक्ष्य कोर मैनेजमेंट कोर्स के साथ बिजनेस एनालिटिक्स प्रोग्राम में मुख्य पाठ्यक्रम के रूप में डाटा इंजीनियरिंग, डिस्क्रिप्टिव बिजनेस एनालिटिक्स, प्रेडिक्टिव बिजनेस एनालिटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के फंडामेंटल और मशीन लर्निंग जैसे पाठ्यक्रमों के जरिये अंडरग्रेजुएट बिजनेस छात्रों में एनालिटिक्ल स्किल विकसित करना है। थर्ड ईयर में छात्रों को बीएफएसआई में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, रिटेल एवं मार्केटिंग में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, ऑपरेशन एवं सप्लाई चेन में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस आदि जैसे करियर ट्रैक में से और वेब एवं सोशल मीडिया एनालिटिक्स, एनएलपी एवं टेक्स्ट एनालिटिक्स, फाइनेंशियल एनालिटिक्स आदि जैसे अध्ययन में से चुनने का मौका मिलता है।

बीएससी (ऑनर्स) इकोनॉमिक्स
इस कोर्स में विषय के मैथमेटिकल व स्टेटिस्टिकल फोकस का मौका दिया जाता है और इसका लक्ष्य वैश्विक मुद्दों की बेहतर समझ विकसित करना है। यह पाठ्यक्रम छात्रों को संभावित व्याख्याओं की ज्यादा गहरी और सूक्ष्म समझ रखने और समाज पर इसके असर को समझने में भी मदद करता है। इस पाठ्यक्रम में माइक्रोइकोनॉमिक्स, मैक्रोइकोनॉमिक्स, सोशियोलॉजी, साइकोलॉजी, कंप्यूटर इकोनॉमी, भारतीय अर्थव्यवस्था एवं अन्य जैसे विभिन्न विषय समाहित किए गए हैं। इस पाठ्यक्रम को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद छात्र सुपीरियर एनालिटिकल एवं इकोनोमेट्रिक स्किल से लैस होंगे। छात्र ऐसी स्किल से लैस होंगे जो अभी उपलब्ध पाठ्यक्रमों में सामान्य तौर पर नहीं मिलती, ऐसा होने से रोजगार के मोर्चे पर छात्र एक विशेष योग्यता के साथ अपनी उपस्थिति दर्ज करा सकेंगे।

बीबीए-एलएलबी
बीबीए-एलएलबी (बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन एंड बैचलर ऑफ लेजिस्लेटिव लॉ) एक पांच साल का इंटीग्रेटेड पाठ्यक्रम है, जहां छात्रों को बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के साथ-साथ कानून से जुड़े विषय भी पढ़ाए जाते हैं। बीएमयू के प्रोफेसर छात्रों को उनकी एनालिटिकल क्षमता, तार्किक क्षमता और कम्युनिकेशन स्किल को बेहतर करने के लिए प्रशिक्षित करते हैं। इस पाठ्यक्रम के तहत छात्रों को प्रिंसिपल ऑफ मैनेजमेंट, फाइनेंशियल अकाउंटिंग, कंप्यूटर एप्लीकेशंस, इफेक्टिव कम्युनिकेशन, लॉ ऑफ टॉट्र्स, फैमिली लॉ, कॉस्टिट्यूशनल लॉ, प्रॉपर्टी लॉ, कंपनी लॉ, एडमिनिस्ट्रेटिव लॉ, सिविल लॉ और क्रिमिनल लॉ जैसे वाणिज्य एवं कानून के विषय पढ़ाए जाते हैं।

बीए-एलएलबी
बीए-एलएलबी (बैचलर ऑफ आट्र्स$बैचलर ऑफ  लेजिस्लेटिव लॉ) एडमिनिस्ट्रेटिव लॉ में पांच साल का डुअल डिग्री प्रोफेशनल कोर्स है। इसमें इकोनॉमिक्स, इतिहास, सोशियोलॉजी और पॉलिटिकल साइंस आदि जैसे आट्र्स से जुड़े विषयों के साथ-साथ क्रिमिनल लॉ, कॉरपोरेट लॉ, पेटेंट लॉ, एडमिनिस्ट्रेटिव लॉ, टैक्स लॉ, इंटरनेशनल लॉ और लेबर लॉ जैसे कानून से जुड़े विशेष विषय भी शामिल किए गए हैं। बीएमयू में इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य छात्रों को रचनात्मक तरीके से सूक्ष्म स्तर पर सोचने और ऊपर उल्लेख किए गए कानूनी मुद्दों से निपटने के मामले में इनोवेटिव आइडिया पर काम करने में सक्षम बनाना है। बीएमएल मुंजाल यूनिवर्सिटी गुडग़ांव, हरियाणा में है और यहां देशभर के छात्र आते हैं। यूनिवर्सिटी में एक अनुभव आधारित लर्निंग मॉडल है, जिसका लक्ष्य छात्रों को फ्यूचर लीडर बनाना है। इस मॉडल के तहत कुछ प्रमुख कंपनियों से जुड़े उद्योग जगत के अगुआ लोगों फैकल्टी के रूप में जोड़ा गया है और छात्रों को बिजनेस मैनेजमेंट की बारीकियां समझाने के लिए रियल लाइफ केस स्टडी का प्रयोग किया जाता है। छात्रों को काम से जुड़ी व्यावहारिक समस्याओं पर काम करने का मौका मिलता है, उनके ज्ञान और अनुभव का आधार बढ़ता है और साथ ही उन्हें उद्योग जगत में काम करने के लिए तैयार किया जाता है। बीएससी (ऑनर्स) इकोनॉमिक्स करने के बाद छात्रों को निजी और सरकारी दोनों सेक्टर में रोजगार मिल सकता है। रुचि एवं कौशल के आधार पर बीबीए बिजनेस एनालिटिक्स ग्रेजुएट छात्रों को विभिन्न डाटा एनालिटिक्स फर्म में डाटा एग्रीगेशन, डाटा मीडिएशन और डाटा विजुअलाइजेशन का रोजगार मिल सकता है। लॉ के छात्रों को लिटिगेशन, लॉ फर्म, लीगल प्रोसेस आउटसोर्सिंग, गवर्नमेंट एजेंसियों में अटॉर्नी जनरल, पब्लिक प्रोसीक्यूटर और जज जैसी विभिन्न भूमिकाओं में मौका मिल सकता है।

whatsapp mail