यह भारतीय संस्कृति व भगवान महावीर के दर्शन का सम्मान हैं : आचार्य लोकेश

img

लास एंजलिस
अमेरिका के लासएंजलिस शहर में आयोजित जैना कन्वेंशन 2019 में हज़ारों श्रावक श्राविकाओं की उपस्थिति में अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक पूज्य आचार्य डॉ लोकेशजी को जैनधर्म की शिक्षाओं को विश्व स्तर पर फैलाने व विभिन्न धर्मों के बीच में जैनधर्म को विशिष्ट प्रतिष्ठा दिलाने में उल्लेखनीय योगदान के लिए अवार्ड प्रदान कर सम्मानित किया गया। जैना के प्रेसिडेंट गुणवंत शाह ने अवार्ड समर्पण के दौरान कहा कि पूज्य आचार्य डॉ लोकेशजी ने अपनी विशिष्ट प्रतिभा के बल पर जिस तरह से यूनाइटेड नेशन्स के मंच से लेकर लंदन की पार्लियामेंट, भारत की संसद, राष्ट्रपति भवन, वर्ल्ड रीलिजन पार्लियामेंट सहित अनेक अन्तर्राष्ट्रीय मंचों से जैनधर्म की विशिष्ट प्रभावना की हैं। उन्होंने विभिन्न धर्मों के विश्व स्तरीय धर्म गुरुओं के बीच अपना विशिष्ट स्थान बनाया है।जैना उन्हें अवार्ड प्रदान कर अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रही हैं। जैनाचार्य डॉ लोकेशजी ने कहा कि ये मेरा नहीं, भारतीय संस्कृति व भगवान महावीर की शिक्षाओं का सम्मान है जो मुझे विरासत में मिली।उन्होंने कहा जैन दर्शन बहुत ही वैज्ञानिक व प्रासंगिक है। जैन दर्शन से हिंसा, आतंक, गरीबी व पर्यावरण प्रदूषण जैसी वैश्विक समस्याओं का समाधान संभव है।उन्होंने युवाओं से जैन धर्म को घर घर पहुँचाने का आव्हान किया। इस अवसर पर आचार्य चन्दनाजी, गुरूदेव राकेशभाई ज़वेरी व मरणोपरान्त गुरूदेव चित्रभानुजी को अवार्ड प्रदान कर सम्मानित किया

whatsapp mail