मोबाइल के कारण 20 साल बाद हर घर में एक व्यक्ति पागल होगा: सवजी धोलकिया

img

सूरत
देश में परिवर्तन लाना जरूरी है। बच्चे मोबाइल फोन से न जानने वाली बातें सीख रहे हैं। इससे जुड़े अनेक मामले रोजाना अखबारों में छप रहे हैं। इसके पीछे मां-बाप की कमी है। समर्पण टेक्नो स्कूल की ओर से आयोजित नाटक कार्यक्रम में सवजी धोलकिया ने कहा कि यदि आप चाहते हैं कि 20 साल बाद आपके घर में पागल न पैदा तो अभी से मोबाइल के इस्तेमाल पर नियंत्रण करो। उन्होंने कहा कि बच्चे बाप से आलस्य और मां से गालियां सीख रहे हैंं। इसमें किसी की गलती निकालने की जरूरत नहीं है। आपके घर में माहौल पर सारा दारोमदार टिका हुआ है। धोलकिया ने कहा कि मैं आप सबको सबसे गंभीर बातें बता रहा हूं। इसे बहुत सोच समझकर कह रहा हूं। लोग हमारी बात मानें यह जरूरी नहीं है। इसके बावजूद मैं कहना चाहता हूं कि हम सभी परिवार के साथ रहते हैं, बच्चों के साथ खेलते हैँ। मेरी बातें याद रखना, 20 साल बाद हर घर में एक व्यक्ति पागल होगा। आज हर आदमी डिपे्रशन में जी रहा है। मोबाइल फोन आदमी को पागल बना रहा है। धोलकिया ने कहा कि हमारी कंपनी में हर जाति और हर कैटेगरी के आदमी काम करते हैं। उनके साथ रहते हुए मुझे यह अनुभ हुआ है। आज बच्चों की नहीं बल्कि अभिभावकों को बहुत कुछ सिखाने की जरूरत है। दुनिया बदल रह है, लोगों की आदतें और विचार बदल रहे हैं। समय के साथ हमें भी बदलने की जरूरत हैं। जो नहीं बदलेंगे वे बहुत पीछे रह जायेंगे। टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करें पर एक सीमा में।

whatsapp mail