एनडीए का घमंड तोड़े बिना गुड गवर्नेंस मुश्किल : गहलोत

img

जयपुर/अहमदाबाद
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शनिवार को अहमदाबाद के दौरे पर रहे। यहां उन्होंने कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि लोकतंत्र खतरे में हैं, सबको मालूम है। जिस रूप में एनडीए गवर्नमेंट ने हरकतें की, उसका नतीजा आज हमारे सामने है। मैं समझता हूं कि यह अहम, घमंड और अभिमान जब तक ध्वस्त नहीं होगा, तब तक यह सरकार गुड गवर्नेंस दे नहीं पाएगी। अभी यह लोग घमंड में चल रहे हैं।

गुजरात सरकार पर साधा निशाना : गुजरात में किसानों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। अतिवृष्टि से नुकसान का मुआवजा कब मिलेगा, कुछ पता नहीं है। यह तमाम बातें हैं, जिसको लेकर शनिवार को कांग्रेस कमेटी ने आंदोलन किया है। हालात को समय पर नहीं सुधारा गया तो पता नहीं इस देश का भविष्य क्या होगा। वैसे भी लोकतंत्र खतरे में हैं। गहलोत बोले- आज उनका ग्राफ नीचे आ रहा है। जब से महाराष्ट्र के चुनाव, हरियाणा के चुनाव हुए हैं, जनता ने इनको सबक सिखा दिया है। एक मैसेज दिया है। आप धारा 370, राष्ट्रवाद और मंदिर के नाम पर राजनीति मत करो जनता समझ चुकी है। उसके नाम पर वोट भी मत मांगो। 

मंत्रिपरिषद की अहम बैठक आज
गहलोत मंत्रिपरिषद की बैठक रविवार को मुख्यमंत्री आवास पर सुबह साढ़े 10 बजे होगी। बैठक में सभी कैबिनेट और राज्य मंत्रियों को बुलाया गया है। बैठक में कई महत्पूर्ण निर्णय लिए जा सकते हैं। बैठक की अध्यक्षता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत करेंगे। कैबिनेट सचिवालय ने सभी मंत्रियों को बैठक की सूचना भिजवा दी है।

राजस्थान में खत्म करेंगे घूंघट प्रथ
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घूंघट के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। गहलोत ने अहमदबाद में शनिवार को कहा कि राजस्थान में महिलाओं की घूंघट प्रथा जल्द खत्म होगी। गुजरात में महिलाओं की स्थिति बेहतर होने की बात करते अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में घूंघट प्रथा जल्द खत्म होनी चाहिए। इससे पहले जयपुर में 5 नवंबर को एक कार्यक्रम के दौरान गहलोत ने कहा था कि घूंघट का जमाना अब गया, लेकिन गांवों में आज भी महिलाएं घूंघट करती है। उन्होंने कहा, 'मैं पूछना चाहता हूं कि एक महिला को घूंघट में कैद करने का एक समाज को क्या अधिकार है? जब तक घूंघट रहेगा तब तक महिलाएं आगे नहीं बढ़ पाएंगी, जमाना गया घूंघट का

'अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर मोदी सरकार पूरी तरह विफल'
वहीं, अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर राजस्थान के सीएम ने मोदी सरकार पर जमकर प्रहार किया. गहलोत ने देश में आर्थिक वृद्धि दर में गिरावट को लेकर मोदी सरकार को अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर पूरी तरह विफल करार देते हुए शनिवार को पूछा कि यह आर्थिक मंदी नहीं तो क्या है?

जीडीपी वृद्धि दर घटकर 4.5 प्रतिशत रह गई
गहलोत ने ट्वीट किया है, 'मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में भारत की जीडीपी वृद्धि दर घटकर 4.5 प्रतिशत रह गयी जो कि बीते छह साल में निचले स्तर पर है. लगातार पांचवीं तिमाही में इस तरह की गिरावट दर्ज की गयी है. गहलोत ने हैशटैग 'जीडीपी के बुरे दिन' के साथ लिखा है, "अगर यह आर्थिक मंदी नहीं तो यह क्या है" उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने शुक्रवार को वृद्धि दर संबंधी आंकड़े जारी किए जिनके अनुसार जुलाई-सितंबर की दूसरी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर घटकर 4.5 प्रतिशत रह गई है.

whatsapp mail