मणिपाल हॉस्पीटल्स, द्वारका में दो दिन की रोबोटिक सर्जरी कार्यशाला

img

नई दिल्ली
भारतीय मरीजों के लिए अपने किस्म की अनूठी टेक्नालॉजी और उन्नत उपचार विधियां लाने की अपनी कोशिशों को जारी रखने के क्रम में मणिपाल हॉस्पीटल्स, द्वारका, नई दिल्ली में दो दिन की रोबोटिक सर्जरी कार्यशाला संपन्न हुई। इसमें रोबोटिक प्रशिक्षण के साथ साथ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फैकल्टी द्वारा लाइव सर्जरी वर्कशॉप, वीडियो आधारित शिक्षण का भी आयोजन किया गया। भारत में यह रोबोटिक जनरल सर्जरी के लिए अब तक का सबसे बड़ा आयोजन रहा है। इसमें देश भर के करीब 160 सर्जन्स और डॉक्टर्स ने हिस्सा लिया। दो दिन की कार्यशाला में नेशनल फैकल्टी ने लाइव रोबोटिक सर्जरी की और ये सर्जरी जीआई, थोरैकिक, सिर और गर्दन, पेडियैट्रिक (शिसु रोग) और हर्निया आदि जैसे मामलों में की गई। इस पहल के बारे में बताते हुए डॉ. अरुण प्रसाद, विभागाध्यक्ष, गैस्ट्रोइंटेसटिनल एंड बैरियैट्रिक साइंस, मणिपाल हॉस्पीटल्स, द्वारका ने कहा, “रोबोटिक सर्जरी ने पिछले दशक के दौरान काफी दिलचस्पी पैदा की है और देश भर में 70 से ज्यादा सेंटर में इसकी प्रैक्टिस हो रही है। वैसे तो यूरोलॉजिस्ट और गायनेकोलॉजिस्ट इसके उपयोग में सबसे आगे हैं लेकिन इस टेक्नालॉजी का भविष्य सबसे ज्यादा जनरल सर्जरी में है। अभी तक मैंने 500 से ज्यादा रोबोटिक सर्जरी की है और यह पूरी तरह न्यूनतम छेड़छाड़ और नुकसान से किया है। इसमें मरीज की रीकवरी तेज होती है। मैं अभी ऐसी और भी सर्जरी करने की उम्मीद करता हूं। इस उभरती टेक्नालॉजी से संबंधित शिक्षा और प्रशिक्षण की घोर आवश्यकता है। दुनिया भर में इस विधि की सर्जरी ने सर्जिकल प्रशिक्षण के क्षेत्र में क्रांति ला दी है। और भारत को पीछे नहीं रहना चाहिए। इस मौके पर अपने विचार रखते हुए मणिपाल हॉस्पीटल्स द्वारका के सीईओ डॉ. प्रमोद अलघरु ने कहा, “मणिपाल हॉस्पीटल्स के लिए एक ऐसी रोबोटिक कार्यशाला का आयोजन करना गर्व की बात है जिसका उपयोग बड़े पैमाने पर उच्च गुणवत्ता वाला हेल्थकेयर मुहैया कराने के लिए किया जा सकता है। मकसद हमारे सर्जन की सुविज्ञता साझा करना और उसे प्रदर्शित करना था। हम अपने ग्राहकों को अभिनव सेवाएं मुहैया कराने और उनका जीवन बेहतर करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

whatsapp mail