मानसून में 5 दिन की देरी, मौसम विभाग ने कहा- 6 जून को केरल पहुंचेगा

img

  • आम तौर पर केरल में मानसून 1 जून को पहुंचता है, स्काइमेट ने इस बार 4 जून को पहुंचने का अनुमान जताया
  • पिछले साल औसत बारिश 91 प्रतिशत हुई थी, स्काइमेट ने 100 प्रतिशत और मौसम विभाग ने 97 प्रतिशत बारिश का अनुमान जताया था

नई दिल्ली
भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कहा कि इस बार मानसून में 5 दिन की देरी रहेगी। मानसून 6 जून को केरल के तट से टकराएगा। सामान्यत: यह 31 मई या 1 जून तक पहुंच जाता था। प्राइवेट एजेंसी स्काइमेट ने मंगलवार को बताया था- मानसून 4 जून तक केरल पहुंचेगा। हालांकि, इसमें 2 दिन कम या ज्यादा भी हो सकते हैं। मौसम विभाग ने बताया, अंडमान समुद्र, निकोबार द्वीप और पूर्वी-दक्षिण बंगाल में मानसून 18-19 मई को पहुंचेगा। इसके बाद मानसून के 6 जून को केरल पहुंचने की पूरी संभावना है। चार दिन कम या ज्यादा भी हो सकते हैं। इससे पहले मानसून 2014 में 5 जून को, 2015 में 6 जून को और 2016 में 8 जून को आया था। जबकि, 2018 में मानसून ने केरल में तीन दिन पहले 29 मई को ही दस्तक दे दी थी। पिछले साल सामान्य बारिश हुई थी। स्काइमेट ने मंगलवार को कहा था, देश में मानसून सामान्य से कम (91 प्रतिशत वर्षा) रहने का अनुमान है। कम बारिश का अनुमान 50 फीसदी है, जबकि सूखे का अनुमान 20 प्रतिशत है। भारत में सबसे पहले मानसून अंडमान और निकोबार द्वीप में 22 मई को आने की संभावना है। आमतौर पर यहां मानसून 20 मई तक दस्तक देता है। मानसून शुरुआत में कमजोर रहने का अनुमान है। पिछले साल देश में 91 प्रतिशत औसत बारिश हुई थी। 2018 में स्काइमेट ने 100 प्रतिशत और मौसम विभाग ने 97 प्रतिशत बारिश का अनुमान जताया था। 

whatsapp mail