सत्ता के नशे में चूर दीदी लोकतंत्र का गला घोंट रही हैं : मोदी

img

कोलकाता
बंगाल में जारी चुनावी हिंसा के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने एक चुनावी रैली में कहा कि बंदूक और बम से लैस दीदी के गुंडे विनाश करने को आमादा हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कोलकाता में हुई हिंसा पर कहा कि सत्ता के नशे में चूर ममता बनर्जी लोकतंत्र का गला घोंट रही हैं। मोदी ने पश्चिम बंगाल की रैली में कहा कि ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल की 'भद्रलोक' की संस्कृति को नष्ट किया। खुद वाराणसी से चुनाव लड़ रहें प्रधानमंत्री ने पश्चिम बंगाल की रैली में दावा किया कि लोगों ने ममता बनर्जी के निरकुंश शासन को खत्म करने का मन बना लिया है। मोदी ने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में दीदी भाजपा के उत्थान से डर गई हैं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी के यह कहने के बाद कि उनकी पार्टी भाजपा से बदला लेगी, तृणमूल कांग्रेस ने अमित शाह के कोलकाता रोडशो पर हमला कर दिया। दीदी, सत्ता तो सेवा का माध्यम होती हैं। आप सत्ता और जनता को अपना गुलाम समझने की भूल कर रही हो। मोदी ने कहा कि दीदी आपकी बौखलाहट और बंगाल का जनसमर्थन देख कर मैं आपसे कह रहा हूं कि अब बंगाल हमे पूर्ण बहुमत से आगे 300 सीटें पार करवा कर रहेगा।
उन्होंने पूछा कि क्या लगता है आपको कि आपकी गालियों और धमकियों से मोदी डर जायेगा? दीदी, जनता को धोखा आप दो, चिटफंड के नाम पर गरीबों का पैसा आप लूटों, भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए धरने पर आप बैठों। और जब पश्चिम बंगाल की जनता आपसे हिसाब मांगे तो आप गालियां देने पर उतर आई, हिंसा और आगजनी करने लगी। नरेंद्र मोदी के प्रति लगातार हमलावर रहने वाली मायावती ने एक बार फिर से भाजपा पर निशाना साधा है। लखनऊ में पत्रकारों को संबोधित करते हुए बसपा प्रमुख ने मोदी सरकार को दलित विरोधी करार देते हुए कहा कि भाजपा दलितों को गुमराह कर रही हैं। उन्होंने लोगों से भाजपा के बहकावे में न आने की अपील भी की। प्रधानमंत्री के बेनामी संपत्ति के आरोप के जवाब पर मायावती ने कहा कि पीएम मोदी शालीनताओं को पार कर चुके हैं, वह बसपा को 'बहनजी की संपत्ति पार्टी' कहने में घबराते नहीं हैं। बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष के पास जो कुछ भी है, वह शुभचिंतकों और समाज के लोगों ने दिया है और सरकार से कुछ भी छिपा नहीं है। सबसे ज्यादा बेनामी संपत्ति वाले लोग भाजपा से जुड़े हैं। इनका हिसाब-किताब कालीन के अंदर छिपा है। उन्होंने यह भी कहा कि जनहित और देशहित के मामले में बीएसपी अध्यक्ष फिट हैं और इसकी तुलना में मोदी अनफिट हैं। मायावती ने पीएम पर सवाल खड़े करते कहा कि सिर्फ कागजों पर ही ईमानदार नजर आते हैं, ठीक ओबीसी के दावे की तरह। मोदी वास्तव में कुछ हैं और जनता के सामने कुछ और बनने की कोशिश करते हैं। 

whatsapp mail