मुख्य सचिव ने की वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से अभियान की समीक्षा

img

धौलपुर
मुख्य सचिव डी बी गुप्ता ने प्रदेश में 22 जुलाई से शुरु होने वाले खसरा -रुबेला अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए सोमवार को जयपुर से विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रत्येक जिला कलेक्टर तथा संबंधित अधिकारियों को दिशा- निर्देश दिये। मुख्य सचिव ने कहा कि खसरा और रुबेला गंभीर बीमारियां हैं और पोलियो से भी बड़ी चुनौती हैं। उन्होंने कहा कि इन्हें केवल टीकाकरण के माध्यम से ही रोका जा सकता है और इसीलिए देश भर में इस बीमारी से लडऩे के लिए युद्ध स्तर पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 22 जुलाई से यह अभियान चलाया जाएगा और इसके तहत लगभग 2 करोड़ 26 लाख बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य होना चाहिये कि एक भी बच्चा टीकाकरण से नही बचे। उन्होंने प्रत्येक जिला कलेक्टर को इस अभियान के लिए जिला तथा ब्लॉक स्तर पर टास्क फोर्स गठित कर बैठक करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अभियान की सफलता के लिए अभियान से पहले ग्राम सभाओं तथा स्कूलों में इसका व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए। गुप्ता ने कहा कि निजी चिकित्सकों तथा नेहरू युवा केन्द्रों की भी सहायता ली जा सकती है। उन्होंने कहा कि सही तरीके से टीकाकरण किया जाना सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण है। उन्होंने चिकित्सा विभाग, शिक्षा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग तथा जनजाति क्षेत्राीय विकास विभाग के अधिकारियों से आपसी समन्वय के साथ कार्य योजना तैयार कर काम करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि इस अभियान की सफलता प्रदेश के लिए एक चुनौती है और सभी के सहयोग से इसे सफल बनाया जा सकता है। एन एच एम मिशन निदेशक डॉ. समित शर्मा ने बताया कि यह केन्द्र सरकार का एक महत्वपूर्ण अभियान है। देश भर में इससे अब तक लगभग 30 करोड़ बच्चे लाभान्वित हो चुके हैं। उन्होंने कहा प्रदेश में यह अभियान 22 जुलाई से शुरु होकर 6 सप्ताह तक चलेगा, जिसके तहत 9 माह से लेकर 15 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा।शर्मा ने कहा कि अभियान के विभिन्न चरणों में निजी और सरकारी स्कूलों तथा मदरसों में पढऩे वाले बच्चों, कच्ची बस्ती में रहने वाले, स्कूल नही जाने वाले बच्चों तर्था इंट भट्टों, घुमन्तु आबादी के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। जिला परिषद सीईओ शिवचरण मीणा ने विडियो कॉन्फ्ऱेंसिंग के जरिए जिले में अभियान से जुड़ी जानकारी दी। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.गोपाल प्रसाद गोयल, जिला प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. शिवकुमार शर्मा, सहित जिले के शिक्षा एवं आईसीडीएस विभाग के आला अधिकारी मौजूद रहे।