फिक्की द्वारा 'एनालिसिस ऑफ यूनियन बजट 2019-20' पर सैशन आयोजित

img

जयपुर
फिक्की राजस्थान स्टेट काउंसिल, सीआईआरसी जयपुर ब्रांच द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) के सहयोग से 'एनालिसिस ऑफ यूनियन बजट 2019-20' पर आईसीएआई भवन, झालाना इंस्टीट्यूशनल एरिया में सैशन का आयोजन किया गया। सैशन का उद्देश्य केंद्रीय बजट के नए प्रावधानों से उद्योगों पर होने वाले प्रभावों को गम्भीरता के साथ चर्चा करना था। कार्यक्रम के दौरान 'चीफ फाइडिंग्स ऑफ यूनियन बजट 2019' विषय पर पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सीजीएसटी और सेन्ट्रल एक्साइज के प्रिंसिपल कमिश्नर पीके सिंह ने बताया कि, सरकार द्वारा इस बजट में आर्थिक और वित्तीय सुधार के लिये कई कदमों की भी घोषनायें की गई। उन्होंने प्रतिभागियों को आह्वान करते हुए कहा 'सरकार का लक्ष्य सिस्टम में पारदर्शिता लाना, ईज़ ऑफ डुईंग को बढ़ावा देना तथा अनावश्यक मुकदमेबाज़ी को खत्म करना है और आप लोग भी सरकार को टैक्स समय पर और पूरा जमा करवाकर प्रगति में भागीदार बनें। आर सोगानी एंड एसोशियेट के फाउंडर व मैनेजिंग पार्टनर राजीव सोगानी ने बजट में प्रत्यक्ष कर से संबंधित विविध प्रावधानों के बारें में जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने बताया कि बजटीय प्रावधान जैसे इंटरनेशनल फाइनेंस सर्विस सेंटर, लिस्टेड कंपनियों के शेयर बाय बैक करने पर अतिरिक्त कर, लिस्टेड कंपनियों से मिनिमम पब्लिक शेयर होल्डिंग को 25 प्रतिशत से बढ़ाकर 35 प्रतिशत करना तथा सोशल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना से अर्थव्यवस्था बदलाव आयेगें। पंकज मलिक एंड कंपनी के सीनियर पार्टनर उज्जवल शर्मा ने बजट में अप्रत्यक्ष करों से संबंधित विविध प्रावधानों की जानकारी दी। उन्होने बताया कि किस प्रकार लेगेसी डिस्प्युट रेजोल्युशन स्कीम 2019 (सबका विश्वास) अर्थव्यवस्था में एक क्रांतिकारी कदम साबित होगा। फिक्की राजस्थान एमएसएमई सब-कमेटी के चैयरमेन तथा एसएमई कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर रजनीश सिंघवी ने सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया। कार्यक्रम के अंत में सीआईआरसी, जयपुर ब्रांच, आईसीएआई के चैयरमेन लोकेश कासट ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद ज्ञापन किया। कार्यक्रम में 100 से अधिक इंडस्ट्रीज, प्रोफेशनल्स और सीए मेम्बर्स ने हिस्सा लिया।