सजगता व सतर्कता के साथ बनाए रखें प्रदेश में सद्भाव : गहलोत

img

कलक्टर-एसपी के साथ वीडियो कांफ्रेंस
संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए जाएं
असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखें


जयपुर
प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरूवार को मुख्यमंत्री कार्यालय से वीडियो कांफ्रेंस के जरिए प्रदेश के विभिन्न जिलों में कानून-व्यवस्था को लेकर संभागीय आयुक्तों, पुलिस कमिश्नर, रेंज आईजी, जिला कलक्टरों एवं पुलिस अधीक्षकों से समीक्षा कर रहे थे।  मुख्यमंत्री ने कहा कि सजगता, सतर्कता और पूर्व तैयारी से किसी भी घटना को बड़ा रूप लेने से बचा जा सकता है। सभी समुदायों के प्रबुद्ध लोगों और युवा वर्ग के साथ नियमित संवाद इस दिशा में महत्वपूर्ण होता है। उन्होंने निर्देश दिए कि सद्भाव बनाए रखने के लिए जिला, ब्लॉक एवं थाना स्तर पर सीएलजी एवं शांति समितियों की बैठक आयोजित की जाएं। गहलोत ने निर्देश दिए कि संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए जाएं और असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखें।

 

सोशल मीडिया पर भडक़ाऊ संदेश प्रसारित करने वाले लोगों से सख्ती से निपटा जाए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150वें और राजीव गांधी के 75वें जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में प्रदेशभर में सद्भावना बढ़ाने वाली गतिविधियां लगातार आयोजित की जा रही हैं। नवम्बर माह को सद्भावना माह के रूप में मनाते हुए राज्य के सभी जिलों में ऐसे आयोजन किए जाएं जिससे सभी समुदायों में भाईचारा और विश्वास की भावना बढ़े। मुख्यमंत्री ने कलक्टरों और एसपी को निर्देश दिए कि वे फील्ड स्तर पर तैनात अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस कर निचले स्तर तक फीडबैक लें। उन्होंने कहा कि सीसीटीवी कैमरों से सुरक्षा इंतजामों में मदद मिलती है।

 

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि हमारी सरकार ने थानों में हर परिवादी की स्थानीय स्तर पर ही सुनवाई के लिए फ्री रजिस्ट्रेशन की नीति लागू की है। ऐसी नौबत नहीं आनी चाहिए जिससे किसी भी पीडि़त को एफआईआर दर्ज कराने के लिए एसपी कार्यालय जाना पड़े। मुख्यमंत्री ने संगठित अपराधों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश देते हुए इसमें पुलिस अधीक्षक एवं उच्च अधिकारियों द्वारा लगातार निगरानी करने के निर्देश दिए।

 

उन्होंने कहा कि परिवादियों को राहत देने तथा प्रकरणों की समय पर तफ्तीश के लिए सरकार ने कांस्टेबल एवं हैड कांस्टेबलों को अनुसंधान करने के लिए अधिकृत किया है। पुलिस अधीक्षक यह सुनिश्चित करें कि  निर्धारित मापदंडों को पूरा करने वाले कांस्टेबल एवं हैड कांस्टेबल इस कार्य में शामिल किए जाएं। उन्होंने परिवादियों की बेहतर माहौल में सुनवाई के लिए थाना स्तर पर बनाए जा रहे स्वागत कक्षों के कार्य को प्राथमिकता से पूरा करने के निर्देश दिए।