ब्याज माफियाओं के रहते आत्महत्या को मजबूर हुए कई परिवार, मुख्यमंत्री भी नहीं सुन रहे इनकी गुहार

img

जयपुर
राजधानी के विधायकपुरी थाना इलाके में ब्याज पर पैसे देकर करोडो की कीमत के मकान और गहने धोखाधडी से हड़पने का मामला सामने आया है नितेश पालीवाल और अनिल अग्रवाल ने बरकत नगर निवासी गिर्राज शर्मा के खिलाफ करीब 2.50 करोड़ के जवाहरात और करीब तीन करोड़ का मकान हडपने का मामला दर्ज करवाया है इस मामले में पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नही होने पर पीडित नितेश पालीवाल और अनिल अग्रवाल ने मंगलवार को पिंकसिटी प्रेस क्लब में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि उन्होने गिर्राज शर्मा से तीन रूपये प्रति सैकड़ा की दर से 43 लाख 50 हजार रूपये ब्याज पर लिए थे जिसकी एवज में उन्होंने हमारे करीब 2.50 करोड़ के जवाहरात, चैक, स्टाम्प मकान के कागज मंगवाए लेकिन पैसे वापस देते वक्त जब हमने उनसे उक्त जवाहरात और कागज मांगे तो उन्होंने देने से मना कर दिया, जिसकी एफआईआर रिपोर्ट - 0094, थाना विधायकपुरी में दिनांक 14 अप्रैल, 2019 को दर्ज कराई लेकिन एक माह बीत जाने के बावजूद पुलिस ने इस दिशा में अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की है मामला दर्ज होने और धोखाधड़ी के सभी साक्ष्य होने के बावजूद कांग्रेस सरकार सहित पुलिस उच्चाधिकारियों में आरोपी के ऊँचे रसूखात के चलते पुलिस हाथ पर हाथ रखकर बैठी है नितेश पालीवाल और अनिल अग्रवाल ने बताया कि इसके बाद मानसिक और आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई है और उनका परिवार भी मानसिक सदमे में है अगर यह मामला समय रहते पुलिस ने कार्रवाई नही की तो विवश होकर आत्महत्या करनी पड़ेगी क्योंकि ये जवाहरात किसी और व्यक्ति से लिए हुए हैं, जो हम पर निरंतर मानसिक दबाव डाल रहा है इसके लिए उन्होने एक महीने पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भी गुहार लगाई थी लेकिन मुख्यमंत्री जी ने भी हमारी तकलीफ की ओर कोई ध्यान नहीं दिया अब तक अपराधी लगातार हमे ही डरा धमका रहा है।