www.talentsprint.com

">

टैलेंटस्प्रिंट ने की अपने वीमन इंजीनियर्स प्रोग्राम की घोषणा की

img

  • गूगल निभाएगा सहयोगी की भूमिका

जयपुर
टैलेंटस्प्रिंट ने आज गूगल द्वारा समर्थित अपने वीमन इंजीनियर्स प्रोग्राम (WE) की घोषणा की। इसके अंतर्गत आने वाले तीन वर्षों में भारत की कुल 600 महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स को प्रशिक्षण दिया जायेगा। विभिन्न सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि से ताल्लुक रखने वाली युवा कॉलेज छात्राओं को एक विस्तृत चयन प्रक्रिया द्वारा चुन कर उन्हें इस पहल के अंतर्गत विभिन्न चरणों में प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा। साथ ही इसके लिए प्रतिभागियों को 100 प्रतिशत छात्रवृत्ति और प्रत्येक प्रतिभागी को 1 लाख रूपये वार्षिक स्टाइपेंड भी प्रदान किया जायेगा। गूगल द्वारा समर्थित टैलेंटस्प्रिंट WE, का लक्ष्य महिला इंजीनियरिंग विद्यार्थियों के बीच से प्रतिभाशाली युवतियों को चुनकर उन्हें सही प्रशिक्षण देने तथा आगे बढने के लिए तैयार करना है ताकि वे इस क्षेत्र में सार्थक योगदान दे सकें और इससे तकनीकी क्षेत्र में मौजूद लैंगिक असमानता को भी संतुलित किया जा सके। अभियान की प्राथमिकता के अनुसार कार्यक्रम को इस प्रकार से तैयार किया गया है कि उससे सुविधाओं से वंचित और साधनहीन तबकों से आने वाली महिला इंजीनियरों को सहयोग मिल सके। ब्यूरो ऑफ लेबर स्टेटस्टेटिक्स के अनुसार, एक ठोस तथ्य यह है कि इसके बावजूद कि प्रोग्रामिंग और टेक्नोलॉजी के शुरूआती दशकों में महिलाओं ने अग्रणी भूमिका निभाई है अब भी वैश्विक स्तर पर टेक्नोलॉजी सेक्टर में महिला इंजीनियरों की प्रतिभागिता मात्र 26 प्रतिशत ही है। कॉलेज की महिलाओं के लिए उनके तीसरे और चौथे अकादमिक वर्ष में एक वर्षीय अनुभवजन्य कार्यक्रम के तौर पर ऑफर किया जाने वाले इस प्रशिक्षण कार्यक्रम टैलेंटस्प्रिंट ङ्खश्व में समर कोडिंग बूटकैंप, लाइव ऑनलाइन क्लासेस, निरंतर मेंटरशिप, सर्टिफिकेशन तथा टीम आधारित प्रोजेक्ट्स जैसी चीजों को शामिल किया गया है। ताकि प्रतिभागियों की प्रॉब्लम सॉल्विंग एवं कंप्यूटेशनल थिंकिंग की क्षमता में बढोत्तरी हो सके। यह अभियान टैलेंटस्प्रिंट के वीमन इन सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग (WISE) नामक अभियान के साथ जुडे पूर्व अनुभव के आधार पर विकसित किया गया है जो कि एक इनोवेटिव विविधता से भरपूर कार्यक्रम था। उस कार्यक्रम ने सेकेण्ड (टियर) द्वितीय श्रेणी के कॉलेजों से चुनी गई कई भरोसेमंद महिला इंजीनियरों को तैयार किया था। वे इंजीनियर्स आज ग्लोबल टेक्नोलॉजी फम्र्स से जुडी हुई हैं। वर्तमान के कार्यक्रम के बारे में बात करते हुए, श्री आनंद रंगराजन, गूगल इण्डिया में इंजीनियरिंग डायरेक्टर, ने कहा, सार्वभौमिक रूप से (हर जगह पर) काम आने वाले तकनीकी उत्पादों को बनाने की प्रक्रिया के हर चरण में महिलाओं को शामिल करना बहुत महत्वपूर्ण है, और हम दुनियाभर में मौजूद सॉफ्टवेयर इंजीनियरों के बीच मौजूद लैंगिक तथा सामाजिक-आर्थिक भिन्नता के लिए सहयोग देने को प्रतिबद्ध हैं। हम इस कार्यक्रम को लेकर बेहद आशान्वित हैं जिसके तहत बहुत आशाजनक परिणाम देने वाली महिला इंजीनियरों का एक बढा समूह तैयार हो रहा है। ये महिलाएं अपनी खास इंजीयनियरिंग स्किल्स इकोसिस्टम और गूगल तक लेकर आएँगी। हम इस अभियान में टैलेंटस्प्रिंट का साथ देते हुए बहुत उत्साहित महसूस कर रहे हैं जिन्होंने अपने क्षेत्र में बहुत शानदार काम किया है। डॉ. शांतनु पॉल, को फाउंडर तथा सीईओ, टैलेंटस्प्रिंट ने इस अवसर पर कहा, हमारे महिला इंजीयनियरिंग प्रोग्राम में गूगल का सहयोग पाकर हम बेहद प्रसन्नता का अनुभव कर रहे हैं। कम्प्यूटिंग का इतिहास इस बात के कई प्रमाण प्रस्तुत करता है कि महिलाएं सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग को रचने में एक अनूठी सूझबूझ तथा काबीलियत से काम लेती हैं। हमारा लक्ष्य है कि हम महिलाओं की इस क्षमता और काबिलियत का उपयोग गूगल तथा इस उद्योग दोनों के लिए कर सकें। लैंगिक और सामाजिक-आर्थिक भिन्नता से परे हम उम्मीद करते हैं कि हम ऐसी प्रतिभाशाली सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स की सम्पूर्ण नई पौध को रच सकें जो कि वैश्विक तकनीकी विकास (ग्लोबल टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट) की अगली लहर को प्रेरित करेंगी। टैलेंटस्प्रिंट ङ्खश्व प्रोग्राम के लिए प्रतिभागियों का चयन एक राष्ट्रीय मूल्यांकन प्रक्रिया के जरिये किया जायेगा। इसके लिए आवेदन कैसे किया जाएए इसकी अधिक जानकारी के लिए कृपया इस वेबसाइट पर जाएं - www.talentsprint.com