शॉर्ट फॉर्मेट कंटेंट को लार्ज फॉर्मेट कंटेंट की जगह किया जा रहा है ज्यांदा पसंद

img

भारत की युवा पीढ़ी की भागमभाग भरी जिंदगी बता रही है कि वे किस तरह अपना मनोरंजन करने का रास्ता चुन रहे हैं। उनके लिए कई प्लेटफॉर्म हैं – सिनेमा, टीवी, आउटडोर स्पोर्ट्स, जोकि मुनाफा कमाने के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। लेकिन भारत में स्मार्टफोन कंपनियों की बढ़ोतरी और मोबाइल डेटा क्रांति ने हाथ से चलाई जाने वाले डिवाइसेस को काफी लाभ पहुंचाया है। लोग ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को अपना रहे हैं और अपने मोबाइल फोन में भारी-भरकम डेटा की खपत कर रहे हैं। श्री करम मल्होत्रा, सीईओ, शेयरइट इंडिया ने कुछ प्रमुख ट्रेंड्स की पहचान की है जिससे भार में कंटेंट की खपत के पैटर्न का पता चलता है। “शॉर्ट फॉर्मेट कंटेंट को लार्ज फॉर्मेट कंटेंट की जगह ज्यामदा पसंद किया जा रहा है। यह ट्रेंड यूट्यूब,फेसबुक और दूसरे ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर समान है। एवरेज मिलेनियल का अटेंशन स्पैिन अब तक के सबसे निचले स्तर पर है। वे एक बड़े फॉर्मेट के कंटेंट के बजाय कई शॉर्ट फॉर्म वाले कंटेंट देखना पसंद करते हैं।” शॉर्ट फॉर्म कंटेंट के लिए उनके इस प्यावर ने शेयरचैट एवं हेलो जैसे लोकप्रिय प्लेटफॉर्म्स में वृद्धि की है।शेयरइट की भारत में उपस्थिति सुदृढ है। शेयरइट के पास फिलहाल भारत में 400 मिलियन से अधिक उपयोक्ता हैं जिन्होंने ये ऐप्लींकेशन डाउनलोड कर रखा है। इनमें से 200 मिलियन से ज्यादा मासिक ऐक्टिव यूजर्स हैं। शेयरइट के लिए, 85 प्रतिशत कंटेंट गैर-अंग्रेजी में कंज्यूम किया जाता है। इस 85 प्रतिशत में,एक तिहाई हिंदी है। इसलिए इस क्षेत्र में रीजनल कंटेंट का प्रभुत्वक ज्यादा है। हिंदी कंटेंट की खपत मुख्य रूप से उत्त्र भारत से आती है। यह इस बात का स्पष्टट संकेत है कि पर्सनलाइजेशन, खासतौर से स्थापनीयकरण कंटेंट क्रिएटर्स एवं कंटेंट प्रसारित करने वाले प्लेटफॉर्म्सस के लिए सफलता की मुख्य कुंजी बन रहा है। इस बात की भी विशिष्ट संभावना है कि अधिक से अधिक लोग अपने कंटेंट के साथ जुड़ने और ट्रांजैक्ट् करने के इच्छुक होंगे। प्रबल संभावना है कि इसकी शुरुआत मोबाइल गेम्स के साथ होगी, जहां लोग खेलने के साथ ही जीत सकते हैं। 2019 में बड़े पैमान पर सामने आने वाला यह नया ट्रेंड होगा। कंटेंट व्यूंईंग एवं शेयरिंग प्लेटफॉर्म्स 2019 में विज्ञापनकर्ताओं का पसंदीदा स्थान बनने के लिए सुदृढ़ स्थिति में हैं। 

whatsapp mail