गोपालन मंत्री बोले-राज्य में नंदीशालाएं बनेगी व पशुओं के लिए 102 एंबुलेंस सेवा शुरू होगी

11

चूरू। खान एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया ने कहा कि राज्य में प्रत्येक पंचायत समिति स्तर पर एक करोड़ 57 लाख रुपए की लागत से नंदीशाला का निर्माण होगा। इसके तहत 10 प्रतिशत अंशदान संबंधित संस्थान व 90 प्रतिशत अंशदान गोपालन विभाग की ओर से व्यय किया जाएगा।

वे शुक्रवार को श्रीबालाजी गोशाला संस्थान सालासर में हुए कार्यक्रम में जिले के गोशाला संचालकों व गोपालन विभाग के अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य में गोशाला संचालकों की मांग पर राज्य सरकार द्वारा छोटे पशु के लिए 16 से 20 रुपए व बड़े पशु के लिए 32 से 40 रुपए अनुदान स्वीकृत किया गया है। गोशाला अनुदान के लिए आवेदन की प्रक्रिया को सरल व ऑनलाइन किया गया है तथा प्रत्येक गोशाला में दो सौ गायों की सीमा को घटाकर एक सौ किया जा रहा है।

राज्य में नंदियों के संरक्षण के लिए एक वर्ष में नौ माह का अनुदान तथा गोशालाओं के लिए एक वर्ष में छह माह के अनुदान की जगह नौ माह का अनुदान दिया जाएगा। गोपालन मंत्री ने कहा कि राज्य में बीमार पशुओं के उपचार के लिए प्रत्येक जिला मुख्यालय पर 102 एम्बुलेंस सेवा शुरू की जा रही है तथा गोशाला विकास योजनांतर्गत अभियान चलाकर गोशाला विकास कार्यों को अंजाम दिया जाएगा। राज्य में बीमार गोवंश के इलाज के लिए माकूल चिकित्सा व्यवस्था, गोशाला भूमि पर अतिक्रमण हटाने व गोचर भूमि विकास के लिए गोशाला संचालकों की सहायता से कारगर कदम उठाए जाएंगे।

सुजानगढ़ विधायक मनोज मेघवाल ने कहा कि जिले में आदर्श गोशालाओं का निर्माण कर गायों की सेवा करना हमारा परम दायित्व है। गोपालन मंत्री ने श्री बालाजी गोशाला संस्थान, सालासर में निर्मित गोवंश टीनशैड का लोकार्पण किया। कार्यक्रम में पशुपालन विभाग के निदेशक लालसिंह, अतिरिक्त निदेशक हुकमाराम, संयुक्त निदेशक डॉ. दलपत सिंह चौधरी, सालासर ग्राम सरपंच प्रतिनिधि बेगाराम ढाका, विद्याधर बेनीवाल, चूरू जिला गोशाला सेवा समिति के अध्यक्ष विमल सारस्वत, ललित दाधीच सहित जिले की गोशाला समिति के अध्यक्ष, गोशाला संचालक सहित गोपालन विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। इससे पूर्व गोपालन मंत्री ने सालासर बालाजी मंदिर में दर्शन किए।

गोशाला निर्माण के लिए दे रहे 10 लाख रुपए

गोपालन विभाग की सचिव आरुषि मलिक ने कहा कि राज्य में गोशाला निर्माण के लिए राज्य सरकार द्वारा 10 लाख रुपए दिए जा रहे हैं। इसके तहत कैटल शैड, पानी की टंकी व टीनशैड निर्माण, चारदीवारी निर्माण के कार्य करवाए जा सकते हैं। आगामी तीन माह में राज्य में 328 करोड़ रुपए का अनुदान गोशालाओं को दिया जाएगा। राजस्थान गोसेवा समिति के अध्यक्ष महंत दिनेश गिरीजी महाराज ने कहा कि गोसेवा का पर्याय देखने के लिए देश के गोशाला संचालकों को श्री बालाजी गोशाला संस्थान, सालासर का भ्रमण करना चाहिए।

बालाजी गोशाला संस्थान, सालासर के अध्यक्ष रविशंकर पुजारी ने गो-संरक्षण आदि के प्रयासों की जानकारी दी। पूर्व जिला प्रमुख भंवरलाल पुजारी, श्री हनुमान सेवा समिति सालासर के अध्यक्ष यशोदानंदन पुजारी व सुरजाराम ढाका ने आवारा पशुओं के संरक्षण के लिए महती कदम उठाने पर बल दिया।

यह भी पढ़ें-हर पंचायत समिति में नंदी गौशाला बनाई जाएगी, गोपालन विभाग 90 फीसदी अनुदान के लिए तैयार