अगले तीन साल में नैतिक मूल्यों पर आधारित मॉड्यूल से होगा शिक्षकों का आमुखीकरण

243

रामकृष्ण मिशन के सहयोग से 200 कस्तूरबा गांधी विद्यालयों को प्रोजेक्टर वितरण

जयपुर। कस्तूरबा गांधी विद्यालयों को प्रोजेक्टर वितरण के अवसर पर  शिक्षा मंत्री  डॉ. बी.डी. कल्ला  ने शिक्षकों को नैतिक मूल्यों के प्रति आस्थावान बनने एवं बच्चों को संस्कारवान बनाने के लिए प्रेरित किया। बुधवार को एचसीएम रीपा के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में संस्था रामकृष्ण मिशन के सहयोग से 200 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों को प्रोजेक्टर वितरित किए गए । इसी अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय के संस्था प्रधानों को संबोधित करते हुए  डॉ. बी.डी. कल्ला  ने कहा कि नैतिक मूल्य ही आदर्श शिक्षक बना सकते है। नैतिक मूल्यो पर जीने के लिए आत्मबल को मजबूत बनाइये, ,जिसका आत्मबल मजबूत होगा वह झुकेगा नहीं। उन्होने शिक्षकों को नैतिक मूल्यों के प्रति ढृढ़ रहने को कहा। उन्होने हीरे जवाहरात आदि को रत्न न बताते हुए अन्न,जल एवं संत-महात्माओं द्वारा कहे गए सुभाषित वाक्यों को असली रत्न बताया। उन्होने विद्यार्थियों के चरित्र निर्माण के लिए पहले स्वयं नैतिक मूल्यों के प्रति निष्ठा रखने एवं खुद का चरित्र निर्माण करने की बात कही। उनके द्वारा रामकृष्ण मिशन एवं दानदाताओं का प्रोजेक्टर  देने के लिए का आभार व्यक्त किया गया ।

राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के आयुक्त एवं राज्य परियोजना निदेशक डॉ0 मोहन लाल यादव ने प्रखर स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस द्वारा स्वामी विवेकानन्द की जय बोलने का उल्लेख करते हुए स्वामी जी के जीवन को देश के लिए अमूल्य एवं अनुकरणीय बताया । उन्होने बताया कि संस्था रामकृष्ण मिशन, राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद् के साथ जागरूकता नागरिक कार्यक्रम के अन्तर्गत राज्य में संचालित कक्षा 06 से 08 के कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालयों मय छात्रावास के लिए कार्य कर रही है। कार्यक्रम  के अन्तर्गत संस्था द्वारा राज्य में संचालित कक्षा 06 से 08 के 200 केजीबीवी हेतु निःशुल्क प्रोजेक्टर उपलब्ध करवाये गये हैं तथा संस्था द्वारा आगामी तीन वर्षों में चरणबद्व क्रम मे कक्षा 6 से कक्षा 8 हेतु नैतिक मूल्यों पर आधारित मॉड्यूल के माध्यम से केजीबीवी शिक्षिकाओ  का आमुखीकरण किया जायेगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता रामकृष्ण मिशन के सचिव स्वामी संतात्मानंद ने की। अपने उद्बोधन में स्वामी जी ने नैतिक मूल्यों, संस्कारों को अपने जीवन में आत्मसात करने पर बल दिया।उन्होने बचपन में ही सही तरह से शिक्षित किए जाने की आवश्यकता पर बल दिया।

 कार्यक्रम के दौरान कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालयों की पूर्व छात्राओं की सफलता पर आधारित कॉफी टेबल बुक एवं समस्त विद्यालयों हेतु माहवारी स्वच्छता प्रबंधन पर आधारित फ्लिपबुक का भी विमोचन किया गया। कार्यक्रम का संचालन राजेन्द्र कुमार शर्मा जिला शिक्षा अधिकारी, माध्यमिक शिक्षा ने किया।