प्रदेश में पहली बार आएगा कृषि बजट : फरवरी के अंतिम सप्ताह तक पेश होगा

अगले साल चुनावों को देखते हुए हो सकती है कई घोषणाएं

जयपुर। प्रदेश में कोरोना की पाबंदियों के बीच गहलोत सरकार ने बजट की तैयारियां शुरू कर दी है। विभागों में बजट को लेकर लगातार बैठकों का दौर जारी है। अगले साल चुनाव होने हैं। ऐसे में इस बार के बजट पर पहले से ज्यादा फोकस किया जा रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए पहली बार कृषि बजट पेश किया जाएगा। इसी बजट में किसानों से संबंधित सारी योजनाओं की घोषणा की जाएगी। पिछले बजट में ही गहलोत ने एग्रीकल्चर बजट अलग से पेश करने की घोषणा की थी। इसे किसानों को पक्ष में करने की रणनीति से जोडक़र देखा जा रहा है।अगले साल चुनाव कारण 2023 के बजट पर काम करने के लिए केवल छह महीने का ही वक्त मिलेगा। इसकी कमी इस बार के बजट में पूरी करने की तैयारी है।

गहलोत कह चुके, इस बार अच्छा बजट आएगा

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत हाल ही एक कार्यक्रम में अच्छा बजट लाने की घोषणा कर चुके हैं। गहलोत ने कहा था कि कोरोना काल में वित्तीय हालात भले तकलीफ में आए, लेकिन, पिछली बार भी रेवेन्यू कम होने के बावजूद हमने किसी को महसूस ही नहीं होने दिया। हमने पिछली बार भी शानदार बजट पेश किया किया। इस बार भी उम्मीद है बजट अच्छा आएगा।

जिले और उपखंड की डिमांड को भी शामिल करने का फोकस

गहलोत सरकार के बजट में नई घोषणाओं की भरमार होने की संभावना है। जिलों और उपखंड मुख्यालय की डिमांड को बजट में शामिल करने पर फोकस होगा। ऐसे काम पर ज्यादा जोर हो सकता है, जिनमें बजट कम लगे लेकिन जनता के बीच इम्पैक्ट अच्छा हो। इस बार के बजट में जो भी घोषणा होगी, उनका अगले साल होने वाले चुनाव पर भी असर जरूर दिखेगा।

फरवरी के आखिर में आएगा बजट

विधानसभा का बजट सत्र फरवरी के पहले या दूसरे सप्ताह में बुलाए जाने की तैयारी है। फरवरी आखिर में गहलोत सरकार बजट पेश करेगी। पिछले साल 24 फरवरी को बजट पेश किया था। इस बार भी फरवरी के आखिर में ही बजट पेश किए जाने की तैयारी है। हालांकि बजट की तारीख विधानसभा की कार्य सलाहकार समिति की बैठक के बाद तय होगी।