बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान अगले महीने होना लगभग तय

1556

3 चरणों में मतदान होने की उम्मीद, कोरोना संक्रमितों के लिए अलग बूथ बनेंगे

पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव तय समय पर होना लगभग तय है। पहले कहा जा रहा था कि कोरोना के चलते चुनाव टल सकता है। चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक, सितंबर के तीसरे हफ्ते में तारीखों का ऐलान किया जा सकता है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी गुरुवार को एक कार्यक्रम में सितंबर में तारीखों के ऐलान होने का जिक्र किया। मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 29 सितंबर को खत्म हो जाएगा।

राज्य की 243 सीटों पर मतदान तीन चरणों में हो सकता है। कोरोना संक्रमितों के लिए चुनाव आयोग अलग बूथ बनाने की भी तैयारी कर रहा है। चुनाव आयोग सोमवार को बिहार के सभी डीएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करेगा। इस दौरान चुनाव के लिए जारी की जाने वाली गाइडलाइंस पर चर्चा होगी। उधर, राज्य में शुक्रवार दोपहर तक कोरोना के मामले 1.15 लाख से ज्यादा हो गए हैं। वहीं, 574 लोग इस बीमारी से दम तोड़ चुके हैं।

नीतीश ने कहा- मंत्री जी आप तो अगस्त तक ही काम कर पाएंगे

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यक्रम में गुरुवार को कहा, चुनाव की तारीखों का ऐलान सितंबर में हो जाएगा। मंत्रीजी, आप तो अगस्त तक ही काम कर पाएंगे। मंत्रीजी आप तो चुनाव के मैदान में रहिएगा। अगले माह से सारा काम तो सचिव को ही संभालना है।

50 प्रतिशत बूथ बढ़ाए जा सकते हैं

सूत्रों के मुताबिक, मतदान के दौरान बूथ पर भीड़ इखट्टा ना हो इसके लिए बूथों की संख्या 50 प्रतिशत तक बढ़ाई जा रही है। पिछले चुनाव में पूरे राज्य में 72 हजार बूथ बनाए गए थे। इस साल 1.6 लाख बूथ बनाए जा सकते हैं। एक बूथ पर 1000 से ज्यादा मतदाता न हो इसकी व्यवस्था की जा रही है।

यह भी पढ़ें-सुशांत सिंह केस में सीबीआई की जांच शुरू

चुनाव प्रचार के लिए राजनीतिक दल सभा तो कर पाएंगे, लेकिन इसमें सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखनी होगी। चुनाव आयोग सभा करने की जगह पहले से तय कर देगा। चुनाव आयोग इसे लेकर दिशा निर्देश जारी करेगा। इसके लिए एक्सपर्ट्स की मदद ली जा रही है।

पीपीई किट पहनेंगे मतदानकर्मी

कोरोना संक्रमितों के लिए अलग बूथ बनाए जाएंगे। इन बूथों पर मतदानकर्मी पीपीई किट पहनकर तैनात रहेंगे। मतदान के समय मतदाता ईवीएम को छू न सके इसके लिए भी व्यवस्था की जा सकती है। मतदानकर्मी ट्रांसपैरेंट प्लास्टिक सीट के पीछे रहेंगे। मतदान केंद्र पर सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा जाएगा।