भाजपा के षडयंत्र को कामयाब नहीं होने देंगे : गहलोत

मुख्यमंत्री ने कहा- पीएम आवास के सामने धरना देना पड़े तो दिल्ली जाएंगे

जयपुर। राजस्थान में सियासी घटनाक्रम का आज 16वां दिन है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायक दल की बैठक में फिर भाजपा पर हमला बोला। उन्होंने कहा, सरकार गिराने की भाजपा की साजिश को कामयाब नहीं होने देंगे। जरूरत पड़़ी तो राष्ट्रपति के पास जाएंगे। अगर इससे भी बात नहीं बनी तो हम प्रधानमंत्री आवास के सामने प्रदर्शन करेंगे। उनकी इस बात का विधायकों ने हाथ उठाकर समर्थन किया।

इस बीच खबर है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अब शाम तक राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलेंगे। पहले दोनों के बीच शाम 4 बजे मिलने की खबर आई थी। गहलोत ने आज सुबह मिलने का वक्त मांगा था। इस दौरान वे विधानसभा सत्र के लिए नया प्रस्ताव देंगे और राज्यपाल की 6 आपत्तियों का जवाब देंगे।

यह भी पढ़ें-मुख्यमंत्री के बेटे वैभव गहलोत ने भाजपा पर बोला हमला

दरअसल, दोनों के बीच सत्र बुलाने को लेकर तकरार बढ़ गई है। मुख्यमंत्री सोमवार को सत्र बुलाना चाहते हैं, लेकिन राज्यपाल ने कोरोना महामारी का हवाला देकर इनकार कर दिया था। कल रात मुख्यमंत्री को भेजे लेटर में सत्र को लेकर आपत्तियां जताई थीं।

कल रात तीन घंटे कैबिनेट बैठक की थी

मुख्यमंत्री गहलोत विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने पर अड़े हैं। उन्होंने शुक्रवार देर रात 1 बजे तक कैबिनेट की बैठक की। तीन घंटे चली बैठक में राज्यपाल कलराज मिश्र की आपत्तियों पर चर्चा की गई। क्या फैसला लिया गया। इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है। इससे पहले दोपहर को मुख्यमंत्री और विधायकों ने 5 घंटे राजभवन में धरना दिया था। 27 साल पहले मुख्यमंत्री भेरौसिंह शेखावत ने ऐसा किया था। 1993 में वे राजभवन में धरने पर बैठ गए थे। राज्यपाल ने 6 आपत्तियां कीं- पूरी खबर पड़ें।