10 सेकेंड सांस रोकने वाले को कोरोना नहीं वाला दावा झूठा

corona, कोरोना
corona, कोरोना

जयपुर । आजकल वायरल थ्रैडस, व्हॉट्सएप पर फॉर्वड हुए मैसेज और बाबाओं द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि अगर बिना खांसे, छींके और बिना किसी असुविधा के आप 10 सेकेंड के लिए अपनी सांस रोक सकते हैं, तो यह साबित करता है कि आपको कोरोना वायरस नहीं है।

कई लोग इस घातक वायरस से सेल्फ-डायग्नोस करने के लिए इसे उपयुक्त मापदंड मान रहे हैं और सड़कों पर बिना सुरक्षा के घूम रहे हैं।

10 सेकेंड सांस रोक रोकने वाले को कोरोना नहीं वायरल का फैक्ट चेक

इन वायरल दावों का खंडन करते हुए, जयपुर के सरदार मेमोरियल अस्पताल के चिकित्सक, डॉ. किशन सिंह ने कहा, एक स्वास्थ्य चिकित्सक होने के नाते, कई मरीज हमारे पास आ रहे हैं और कह रहे हैं कि मैं 30 सेकेंड तक अपनी सांस रोक सकता हूं, इसलिए मुझे कोरोनावायरस नहीं है।

कोरोना की जंग, देश में 21 दिन का लॉकडाउन

यह दावा बहुत ही भ्रामक है और लोगों के बीच बहुत ही प्रचलित हो चुका है। इससे लोग अपने घरों से निकलने के लिए आश्वस्त हो रहे हैं, जिससे वह दूसरों के साथ-साथ खुद को भी खतरे में डाल रहे हैं।

10 सेकेंड तक अपनी सांस रोक पाना बस यह साबित करता है कि इस स्तर पर फेफड़ों की भागीदारी नहीं है। हालांकि, यह किसी भी तरह से कोरोनावायरस नहीं होने का प्रमाण नहीं है। इस बीमारी के लक्षण बाद में दिखाई दे सकते हैं।

उन्होंने सभी नागरिकों से घर पर रहने, सुरक्षित रहने और इस महत्वपूर्ण समय में गलत सूचना न फैलाने का अनुरोध किया।