सेना ताकत बढ़ाएगी: लद्दाख सेक्टर में तैनात इजराइली हेरोन ड्रोन लेजर गाइडेड बम और मिसाइलों से लैस होंगे

Israeli heron drones deployed in Ladakh sector
Israeli heron drones deployed in Ladakh sector

लंबे समय से पेंडिंग प्रोजेक्ट चीता नाम के प्रस्ताव को सेना ने फिर से आगे बढ़ाया, करीब 3500 करोड़ खर्च आने की उम्मीद

90 हेरोन ड्रोन को लेजर-गाइडेड बम, एयर-टू-ग्राउंड और एयर लॉन्च्ड एंटीटैंक गाइडेड मिसाइलों के साथ अपग्रेड किया जाएगा

चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना अपनी ताकत बढ़ाने में जुटी हुई है। सेना से इजराइली ड्रोन हेरोन यूएवी को और ताकतवर बनाने के प्रोजेक्ट को आगे बढ़ा दिया। सेना हेरोन को लेजर-गाइडेड बम, प्रेशिसन-गाइडेड यूनिशन और दुश्मनों के ठिकानों और बख्तरबंद रेजीमेंट के लिए एंटी टैंक मिसाइल लैस करने की तैयारी में है। लंबे समय से पेंडिंग प्रोजेक्ट चीता नाम के प्रस्ताव को सेना ने फिर से आगे बढ़ाया है। इसमें सरकार के करीब 3500 करोड़ रुपए खर्च होने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें: सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन की मंज़ूरी

90 हेरोन ड्रोन को अपग्रेड किया जाएगा
सरकार के सूत्रों के हवाले से बताया कि इस प्रोजेक्ट में तीनों सेनाओं के 90 हेरोन ड्रोन को लेजर-गाइडेड बम और मिसाइलों के साथ अपग्रेड किया जाएगा। मामले पर डिफेंस सेक्रेटरी अजय कुमार समेत हाई-लेवल डिफेंस मिनिस्ट्री बॉडी विचार कर रही है। प्रपोजल के मुताबिक, सशस्त्र बलों ने ड्रोन से दुश्मनों के ठिकानों पर नजर रखने की बात कही है। भारत के मीडियम एल्टीट्यूड लॉन्ग इंड्यूरेंस ड्रोन को अनमैन्ड एरियल व्हीकल कहा जाता है। इनमें हेरोन भी शामिल है