मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन ने बैक टू कैम्पस और पढ़ाई की निरंतरता बनाए रखने तथा छात्रों के विकास की योजना का खुलासा किया

श्रेष्ठता वाले संस्थान और भारत की अग्रणी शैक्षणिक तथा अनुसंधान संस्था मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन (एमएएचई) ने बैक टू कॉलेज कैम्पस की अपनी योजना और उन तैयारियों का खुलासा किया जो इसके सभी छात्रों के लिए ऑनलाइन से क्लासरूम मोड में सहज पारगमन के लिए चल रही हैं।

इस प्रेस कांफ्रेंस को डॉ. एचएस बल्लाल – प्रो चांसलर, मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन, लेफ्टिनेंट जनरल (डॉ.) एमडी वेंकटेश, वाइस चांसलर, मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन, डॉ. नारायण सभाहित – रजिस्ट्रार, मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन तथा एसपी कार, प्रेस कांफ्रेंस के संयोजक और निदेशक, पीआर मीडिया तथा सोशल मीडिया सेल – मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन ने संबोधित किया।

कर्नाटक सरकार द्वारा उच्च शिक्षा तथा पेशेवर कॉलेज के छात्रों के लिए कैम्पस में वापस पहुंचने की घोषणा के बाद एमएएचई ने भी सभी छात्रों के लिए इस पारगमन को बाधाहीन बनाने की व्यवस्था की गई है।

संस्थान ने इस बात की भी व्यवस्था की है कि सभी कॉलेज और विश्वविद्यालय प्रोटोकोल के अनुसार काम करें और सुनिश्चित करें कि छात्र सुरक्षित है तथा महामारी की छाया में अपनी पढ़ाई जारी रख सकें। इसके अलावा, एनईपी 2020 की घोषणा के बाद एमएएचई अपने सभी कॉलेजों में सभी पाठ्यक्रम को भारत सरकार के गए साल के प्रस्तावित दिशानिर्देशों से ताल मेल में कर रही है।

मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन के प्रो चांसलर डॉ. एचएस बल्लाल ने कहा “एमएएचई में हम अपने छात्रों के लिए सर्वश्रेष्ठ चाहते हैं। कोविड से बचाव के लिए टीकाकरण से शुरुआत करके कोविड प्रभावित छात्रों को वित्तीय सहायता देने तक। इस चुनौतीपूर्ण समय में हम लचीले रहे हैं और अपने छात्रों को तमाम सहायता मुहैया करवाया है। शिक्षा क्षेत्र में कोविड का प्रभाव जबरदस्त रहा है।

संस्थानों और विश्वविद्यालयों ने “नए नॉर्मल” और “वर्चुअल एजुकेशन” को अपना लिया है। इसलिए छात्रों को अपनी पढ़ाई या कैरियर में नुकसान नहीं उठाना पड़ता है। अब जब छात्र धीरे-धीरे कैम्पस में वापस लौट रहे हैं तो हम सुनिश्चित करेंगे कि कोविड प्रोटोकोल का पालन पूरी गंभीरता किया जाए तथा छात्र पढ़ें और बढ़ें।”

अपने विचार साझा करते हुए मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन के वाइस चांसलर लेफ्टिनेंट जनरल डॉ. वेंकटेश ने कहा, “शिक्षा क्षेत्र में उभरते बदलावों, खासकर कोविड के समय में, कॉलेज और विश्वविद्यालय कोशिश कर रहे हैं कि भविष्य के लिए तैयार और महामारी से बेअसर माहौल बनाया जाए और हमें यह कहते हुए खुशी हो रही है कि एमएएचई ने अच्छी-खासी प्रगति हासिल की है।

हम अपने छात्रों का कॉलेज कैम्पस में स्वागत करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। हमारे सभी छात्रों तथा कर्मचारियों के लिए हमारे कोविड 19 टीकाकरण अभियान ने बेहतर ढंग से तैयार कर दिया है और हम ऑनलाइन से क्लासरूम में सहजतापूर्वक जाने के लिए तैयार हैं। हम छात्रों के लिए उच्च स्तर के सभी सरकारी प्रोटोकोल को लागू करना जारी रखेंगे और कोविड उपयुक्त उपाय करेंगे। एमएएचई ने एनईपी 2020 लागू करने के लिए एक योजना पहले ही तैयार कर ली है।”

मणिपाल ऐकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन के रजिस्ट्रार, डॉ. नारायण सभाहित ने कहा, “एमएएचई में हमलोगों ने अपने छात्रों को हमेशा सर्वोच्च प्राथमिकता में रखा है। हमलोगों ने सभी विभागों / पाठ्यक्रमों के लिए शिक्षा की एक सीवनहीन और निर्बाध निरंतरता रखी है और 2020 में महामारी शुरू होने के बाद से हर कदम पर अपने छात्रों का मार्ग दर्शन किया है।

सौभाग्य से सभी परीक्षाएं, टेस्ट और पाठ्यक्रम बगैर किसी बाधा के संपन्न हुए। हमें एमएएचई में नया दाखिला चाहने वाले छात्रों से अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। हमें यह कहते हुए गर्व हो रहा है हमारी फैकल्टी और छात्रों ने गठजोड़ कर महामारी को सफलतापूर्वक पार किया है। नई एनईपी नीति लागू होने के बाद हमारा लक्ष्य एक मजबूत और मूल्य आधारित उच्च शिक्षा प्रणाली तैयार करना है।”

प्रेस कांफ्रेंस के संयोजक और निदेशक, पीआर मीडिया तथा सोशल मीडिया सेल, एसपी कार ने एमएएचई की उपलब्धियां तथा भिन्न राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की रैंकिंग और मान्यताओं के बारे में बताया और रेखांकित किया कि एमएएचई की ज्यादातर संस्थाओं ने पिछले साल की तुलना में अपनी रैंकिंग बेहतर की है या कायम रखी है।”

यह भी पढ़ें-आमागढ़ के बाद अब खोहगंग को लेकर विवाद, किरोड़ीलाल मीणा ने 21 अगस्त को जयपुर कूच का ऐलान किया