शतरंज के खेल से मानसिक विकास संभव

6

बारां। साक्षरता एवं सतत शिक्षा निदेशालय व संकल्प इंडिया फाउंडेशन की ओर से रविवार को किशनगंज ब्लॉक में शतरंज प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गई।

जिसमें नवसाक्षर ग्रामीण महिलाओं को शतरंज खेल सिखाया गया। पंचायत समिति सभागार में आयोजित कार्यशाला में संकल्प इंडिया फाउंडेशन के चेयरमैन संकल्प विजय ने कहा कि शतरंज का खेल मानसिक और बौद्धिक विकास में सहायक है।

नवसाक्षर महिलाओं के कौशल अभिवृद्धि में यह खेल सहायक होगा। मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी सरोज दीक्षित ने कहा कि शतरंज का खेल चुनौतियों का सामना करने, विषम परिस्थितियों में धैर्य के साथ निर्णय लेने सहित अन्य क्षमताओं का विकास करता है।

जिला साक्षरता प्रभारी दिलीप मीणा ने बताया कि कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि महात्मा गांधी विद्यालय के प्रधानाचार्य चंद्रेश शर्मा, जिला शतरंज संघ के अध्यक्ष प्रद्युम्न गौतम व सचिव सुनील शर्मा थे।

प्रशिक्षक प्रदीप चौरसिया ने महिलाओं को शतरंज की चालों और नियमों के बारे बताया। कार्यक्रम में साक्षरता ब्लॉक कॉर्डिनेटर पुष्पशंकर कुशवाह, जिला उपभोक्ता आयोग सदस्य ललित वैष्णव, चतरसिंह सहित नव साक्षर महिलाएं मौजूद थी।

यह भी पढ़ें-जेसीआई ने कच्ची बस्तियों में करवाई सफाई, जरूरतमंदों को राशन किट बांटे