ओशो की निजी सचिव रही मां योग नीलम का निधन

ओशो निसर्ग हिमालय ध्यान केंद्र धर्मशाला की संस्थापक और ओशो की निजी सचिव रहीं मां योग नीलम का लंबी बीमारी के बाद धर्मशाला में निधन हो गया। वे कुछ सालों से बीमार थीं।

उनका जन्म 19 मार्च 1949 को हुआ था। वे पहली बार 1969 में लुधियाना में ओशो से मिली थीं और 1972 में संन्यास लिया। वह अक्सर पुणे में ओशो के आश्रम में आती थीं और रजनीशपुरम् में चार साल रहीं।

अपनी आखिरी रात अपनी सांसों को देखते हुए बिताई, जितना संभव हो सका क्रॉस-लेग करके बैठीं। अपनी बेटी और प्राथमिक केयरटेकर को अपडेट करती रहीं कि उनकी सांस कैसी चल रही है।

उन्होंने अपनी बेटी मां प्रिया से आखिरी शब्द में कहा, अब यह सब आपके माध्यम से होना है। बस आत्मविश्वास रखें और उन्होंने अंतिम सांस ली।

यह भी पढ़ें-यूपी में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना में 25 जगहों पर हिंसा, दो लोगों की मौत