1175 जन समस्या आवेदन में से 795 का मौके पर ही निस्तारण किया

चित्तौडग़ढ़। प्रशासन गांवों के संग अभियान-2021 के तहत पूर्व तैयारी शिविर का आयोजन ग्राम पंचायत खारखन्दा में एसडीएम रामसुख गुर्जर की अध्यक्षता में हुआ। शिविर में तहसीलदार नरेश कुमार गुर्जर, विकास अधिकारी मनोहर लाल शर्मा व अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

गुर्जर ने संबोधित करते हुए ग्रामीणों को बताया कि क्षेत्र की सभी ग्राम पंचायतों के वंचित वर्गों को ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुंचाने व जनता की समस्याओं का ग्राम पंचायत स्तर पर ही समाधान कराने की दृष्टि सें प्रशासन गांवों के संग अभियान 2021 का आयोजन हुआ है। उन्होंने गंदगी गंगरार छोडों का नारा देते हुए अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने एवं समाज को उत्कृष्ट बनाने का संदेश दिया। उन्होंने तम्बाकू व धूम्रपान के दुष्प्रभाव की जानकारी दी।

इसी दौरान शिविर स्थल पर मौजूद पंचायत समिति उपप्रधान प्रतिनिधि नारू जाट, हीरालाल व लेहरू लाल जाट ने प्रेरित होकर बालाजी को साक्षी मानकर तम्बाकू छोडऩे की शपथ दिलाई। उन्होंने कहा शिक्षक व्यक्ति, समाज और राष्ट्र का निर्माण करता है। शिक्षक को बच्चों को किताबी ज्ञान के साथ-साथ संस्कारित शिक्षा देकर अच्छा नागरिक बनाकर देश को समर्पित करें। वहीं चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को सेवाभाव से कार्य करने व तीसरी लहर से बचाव के लिए ग्रामीणों को कोरोना टीका शत-प्रतिशत लगाने के लिए पाबंद किया।

पंचायत विभाग के अधिकारी को सभी ग्राम पंचायत स्तर पर 21 दिन में जन्म व मृत्यु प्रमाण-पत्र बनवाने हेतु पाबंद किया। शिविर स्थल पर ग्रामीणों से जन समस्याओं के कुल 1175 आवेदन प्राप्त हुए। जिसमें से 795 का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया।

बेगूं. पंचायत समिति सभागार में सोमवार को प्रशासन गांवों के संग अभियान को लेकर सरपंचों और कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया। क्लस्टर स्तर पर दिए गए प्रशिक्षण में प्रधान नारु लाल भील, कार्यवाहक बीडीओ हरीशंकर सुथार, अतिरिक्त बीडीओ संजय शर्मा, सहायक बीडीओ सत्यनारायण सोनी, बजरंग कोली, हेमराज सेन, राजेंद्र कुमार डीडवानिया, अमित चौरे आदि मौजूद रहे।

प्रशिक्षण के दौरान सरपंचों, वार्ड पंचों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, साथिनों, पंचायत सहायकों आदि को प्रशासन गांवों के संग अभियान की तैयारियों का प्रशिक्षण दिया गया। 2 अक्टूबर को ग्राम पंचायत स्तर पर आयोजित प्रशासन गांवों के संग अभियान में अधिकाधिक ग्रामीणों को लाभ पहुंचाने का आह्वान किया गया।

यह भी पढ़ें- मेवाड़ राजवंश के शाही वस्त्रों के चित्र व जानकारी वाली रॉयल टेक्सटाइल्स ऑफ मेवाड़ पुस्तक का विमोचन