नीट यूजी के 1563 कैंडिडेट्स की दोबारा परीक्षा का प्रस्ताव

नीट यूजी
नीट यूजी

एनटीए ने नीट परीक्षा में दिए ग्रेस मार्क्स वापस लिए

नई दिल्ली। मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम यूजी  2024 पर बड़ी खबर आई है। आखिरकार नीट में धांधली के आरोपों को लेकर देशभर में चल रहे विरोध प्रदर्शन के बीच नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने बड़ा कदम उठाया है। परीक्षा आयोजित करने वाली राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी यानी एनटीए ने नीट यूजी 2024 ग्रेस मार्क्स वापस ले लिए हैं। इसी के साथ 1563 स्टूडेंट्स का नीट स्कोरकार्ड रद्द कर दिया है। ये वे छात्र छात्राएं हैं, जिन्हें ग्रेस मार्क्स दिए गए थे। अब इन बच्चों का नीट रिजल्ट कैंसिल कर दिया गया है।

30 जून से पहले री-नीट यूजी का रिजल्ट आ जाएगा

इसी के साथ एनटीए ने सर्वोच्च न्यायालय में कहा है कि इन 1563 स्टूडेंट्स के लिए फिर से नीट की परीक्षा आयोजित की जाएगी। एनटीए ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि 30 जून से पहले इस री-नीट परीक्षा का रिजल्ट भी जारी कर दिया जाएगा। नीट री एग्जाम डेट 2024, 23 जून रखी गई है।

बदल जाएगी पूरी मेरिट लिस्ट

1563 बच्चों का नीट रिजल्ट रद्द होने और इनके लिए नीट री-एग्जाम कराए जाने के बाद फाइनल स्कोर का असर पूरी नीट मेरिट लिस्ट पर पड़ेगा। इन बच्चों के मार्क्स बदलते ही इनकी नीट ऑल इंडिया रैंक भी बदलेगी। इसी के साथ पूरी मैरिट लिस्ट भी बदल जाएगी। लाखों बच्चों की रैंक पर असर पड़ेगा। ऐसे में एनटीए को फिर से नीट मैरिट रैंक लिस्ट 2024 जारी करने की जरूरत होगी।

री- नीट यूजी में शामिल नहीं हुए तो बिना ग्रेस वाले ही अंक

एनटीए ने कहा है कि जिन स्टूडेंट्स को ग्रेस मार्क्स दिए गए हैं, अगर वो री-नीट-2024 में शामिल नहीं होते हैं, तो उनके बिना ग्रेस मार्क्स वाले अंक लागू होंगे। यानी अगर ग्रेस मार्क्स के साथ किसी को 715 अंक मिले हैं, लेकिन ग्रेस के बिना उसके अंक 640 हैं, तो 640 नंबर पर ही रैंक मिलेगी।

यह भी पढ़ें:कुवैत अग्निकांड: बचने के लिए लोग खिड़कियों से कूदे