बनवाली रेल गुड्स शेड निर्माण विशेष रेल परियोजना में रेलवे लगभग 8 करोड़ रुपये करेगी खर्च

11

श्रीगंगानगर। श्रीगंगानगर में रेलवे स्टेशन पर नये प्लेटफार्म व सेकंड एंट्री निर्माण की योजना को मजबूती के मामले में रेलवे एक कदम और आगे बढ़ गयी हैं। जेडआरयूसीसी सदस्य भीम शर्मा ने बताया कि यहाँ आजाद टाॅकीज के निकट रेलवे के मालगोदाम को श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ रेल सेक्शन पर बनवाली स्टेशन पर नया गुड्स शेड बनाकर शिफ्ट करने की योजना काफी समय से लंबित हैं। इस विलम्ब का कारण बनवाली में गुड्स शेड के लिये जमीन अधिग्रहण की कार्रवाई न हो पाना रहा हैं। रेलवे की ओर से जमीन अधिग्रहण की मांग बहुत समय से राजस्थान सरकार से की जा रही थी।

उत्तर पश्चिम रेलवे के बीकानेर मण्डल के अधीन बनवाली रेलवे स्टेशन पर नया गुड्स शेड बनाकर श्रीगंगानगर के मालगोदाम को बनवाली में शिफ्ट करने की इस परियोजना को पिछले दिनों भारत सरकार की ओर से ‘विशेष रेल परियोजना‘ में अधिसूचित कर दिया गया था। केंद्र सरकार ने रेल अधिनियम 1989 की धारा 2 के खंड (37 क) द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए इस परियोजना को विशेष रेल परियोजना घोषित किये जाने के बाद अब राज्य सरकार की ओर से जिला कलेक्टर श्री जाकिर हुसैन ने इसके लिये उपखण्ड अधिकारी सादुलशहर को प्राधिकृत किये जाने की अनुशंसा की थी, जो रेल अधिकारियों के साथ समन्वय बैठाकर भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई में सहयोग करेंगे।

उत्तर पश्चिम रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग की ओर से जिला कलेक्टर श्री जाकिर हुसैन की अनुसंशा के बाद भारत सरकार के गजट नोटिफिकेशन में उपखण्ड अधिकारी सादुलशहर को सक्षम प्राधिकारी अधिकारी के रूप में प्राधिकृत किया जा चुका हैं। पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्राी व सांसद श्री निहालचंद ने इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट की राशि को मंजूरी दिलाने के लिये भरसक प्रयास किये थे। इस प्रोजेक्ट पर रेलवे लगभग 8 करोड़ (यह लागत ज्यादा भी हो सकती हैं) की राशि खर्च करेगी।

’श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन की पलट जायेगी काया’

भीम शर्मा के अनुसार वर्तमान मालगोदाम की शिफ्टिंग न हो पाना यहां के रेल विकास में बहुत बड़ी बाधा बना हुआ था।श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन पर वर्तमान में सीमित लाइन व प्लेटफार्म की वजह से कोई भी नई ट्रेन ला पाना सम्भव नही हो पा रहा हैं।

वर्त्मान मालगोदाम के बनवाली में शिफ्ट होने के बाद यहाँ नये प्लेटफाॅर्म व सेकंड एंट्री का निर्माण हो सकेगा जिससे नई ट्रेनों का श्रीगंगानगर में आगमन हो सकेगा।सेकंड एंट्री के निर्माण के बाद साधुवाली सैनिक छावनी, पुलिस लाईन सहित पंजाब की ओर से आने वाले उन वाहनों को लम्बा मोड़ काटकर नही आना पड़ेगा जो ट्रैन में सवार होने के लिये आते हैं।

यह भी पढ़ें- 16वें वैक्सीनेशन शिविर में हुआ 330 लोगों का टीकाकरण