कोविड-19 के बीच आई राहत भरी खबर, रिकवरी रेट में लगातार बढ़ोतरी, यह है आंकड़ा

5
कोरोना वायरस, corona virus
कोरोना वायरस, corona virus

कोविड–19 की रोकथाम, नियंत्रण और प्रबंधन के लिए राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के साथ मिलकर भारत सरकार कई कदम उठा रही है। उच्चतम स्तर पर इनकी नियमित रूप से समीक्षा और निगरानी की जा रही है।

लॉकडाउन से कई लाभ हुए हैं। इससे मुख्य रूप से संक्रमण के फैलाव की गति को नियंत्रित करने में मदद मिली है। सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के अनुमानों के अनुसार लॉकडाउन की वजह से बड़ी संख्या में मौत के मामलों को रोका जा सका है। इसी के साथ लॉकडाउन अवधि के दौरान स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए विशेष बुनियादी ढांचे के विकास; ऑनलाइन प्रशिक्षण मॉड्यूल और वेबिनार के माध्यम से मानव संसाधन क्षमता विकास; परीक्षण क्षमता में वृद्धि, आपूर्ति, उपकरण और ऑक्सीजन में वृद्धि; आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करना, मानक तय करना उनको प्रचारित करना तथा उनका पालन करना। नैदानिक तरीकों और दवाओं का परीक्षण तथा टीकों के लिए अनुसंधान विकास का काम हुआ है। इसके साथ ही घर-घर जाकर संपर्क और आरोग्य सेतु जैसे उपकरणों के इस्तेमाल के जरिए निगरानी तंत्र को मजबूत बनाया जाना इसका सफल तकनीकी पक्ष रहा है।

कोविड-19 की रोकथाम, नियंत्रण और प्रबंधन के लिए राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के साथ मिलकर भारत सरकार कई कदम उठा रही है।

लॉकडाउन के दौरान स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए आवश्यक बुनियादी ढ़ाचा तेजी से बढ़ाया गया। देश में 27 मई 2020 तक, 930 समर्पित कोविड अस्पताल तैयार किए गए जिनमें 1,58,747 अलग-अलग बिस्तर, 20,355 आईसीयू वाले बिस्तर और 69,076 ऑक्सीजन लगे बिस्तर उपलब्ध हैं। देश में कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए इस समय 2,362 समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्र भी बनाए गए हैं, जिनमें 1,32,593 अलग बिस्तरों, 10,903 आईसीयू बिस्तरों और 45,562 ऑक्सीजन समर्थित बिस्तरों की व्यवस्था है।

यह भी पढ़ें-कोविड-19: लॉकडाउन खुलने के बाद पांच एप बनेंगे लाइफ स्टाइल का हिस्सा

6,52,830 बेड वाले 10,341 संगरोध केंद्र और 7,195 कोविड देखभाल केंद्र भी बनाए गए हैं। केंद्र सरकार ने राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों/केंद्रीय संस्थानों को 113.58 लाख एन95 मास्क और 89.84 लाख व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) उपलब्ध कराए हैं। देश में 435 सरकारी प्रयोगशालाओं और 189 निजी प्रयोगशालाओं (कुल 624 प्रयोगशालाओं) के माध्यम से परीक्षण क्षमता भी बढ़ी है।

कोविड-19 के लिए अब तक 32,42,160 नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है। अकेले कल 1,16,041 नमूनों का परीक्षण किया गया।

कुल मिलाकर कोविड के लिए अब तक 32,42,160 नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है। अकेले कल 1,16,041 नमूनों का परीक्षण किया गया। देश में अबतक कोराना संक्रमण के कुल 1,51,767 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 64,426 लोग ठीक हुए हैं और बीमारी से ठीक होने की दर सुधरकर 42.4 प्रतिशत हो गई है। देश में कोविड मृत्यु दर 2.86 प्रतिशत है, जबकि विश्व में इसका 6.36 प्रतिशत है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोविड-19 महामारी के दौरान प्रजनन, मातृत्व, नवजात, बच्चे, किशोर स्वास्थ्य+पोषण सेवाओं के संबंध में एक दिशा-निर्देश नोट जारी किया है। विवरण यहाँ पर उपलब्ध है: