साध्वी मैना कंवर आदि ठाणा का सुवाणा से विहार

86

भीलवाड़ा। वर्द्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ सुवाणा के शीतल भवन में चातुर्मास के बाद श्रमण संघीय उपप्रर्वतिनी साध्वी मैना कंवर, साध्वी कांता कंवर, साध्वी प्रियदर्शना, साध्वी पुष्पलता, साध्वी कमलप्रभा, एवं साध्वी ज्योतिप्रभा आदि ठाणा को सुवाणा श्रीसंघ द्वारा रविवार को विदाई दी गई।

इससे पूर्व आयोजित विदाई समारोह एवं प्रवचन के दौरान क्षमामूर्ति पूज्य गुरूदेव श्री कजोडीमल महाराज, गुप्त तपस्वी गुरूदेव श्री भुरालाल महाराज, मेवाड़ संघ शिरोमणि गुरूदेव श्री छोगा लाल महाराज एवं भजनानन्दी गुरूदेव गोकुल चन्द महाराज की 120वीं दीक्षा जयंती मनाई गई। साथ ही साध्वी मैना कंवर द्वारा वेरागण बहिन सिंगोली मध्यप्रदेश निवासी विजया मेहता पुत्री विमली देवी स्व. रोशन लाल मेहता की आगामी 23 जनवरी को होने वाली दीक्षा बेंगू एवं बडी दीक्षा पारसोली जिला चित्तौडगढ में करने की घोषणा की। साध्वी ने उपस्थित श्रावकों को कहा कि अहिंसा के रास्ते पर चले।

श्रीसंघ सुवाणा के अध्यक्ष सुशील चपलोत ने चार महिनो के दौरान जाने अनजाने में श्रीसंघ द्वारा हुई गलतियो के लिये क्षमा याचना की। सुवाणा श्रीसंघ के पदाधिकारियो द्वारा अध्यक्ष सुशील चपलोत का माला, शाल एवं मेवाडी पगडी पहनाकर सम्मान किया। संघ के उपाध्यक्ष प्रकाश चपलोत जैन ने बताया कि आगामी दिनों में वेरागण बहिन का वरघोडा निकाला जायेगा। जिसके लिये साध्वीयो ने सहमति प्रदान की।

बडी मांगलिक के पश्चात सभी साध्वीयो का जयघोष के साथ स्थानक से विहार हुआ। साध्वीया सोमवार को यश विहार के सामने स्थित गुलाब सिह बाबेल नन्दराय वाले के निवास पहुंचेगी। इस अवसर पर संघ के मंत्री शंभू सिंह खारीवाल, सहमंत्री विनोद हिंगड, कोषाध्यक्ष लालचन्द चपलोत, मुकेश चपलोत, राजू हिंगड, कमलेश चपलोत, अशोक बाबेल, दौलत चपलोत, रविन्द्र चपलोत, राकेश खारीवाल, पिन्टू सुराणा, सुरेन्द्र चपलोत, नेमीचन्द चपलोत सहित कई उपस्थित थें। समारोह का संचालन सुशील चपलोत ने किया।

यह भी पढ़ें- शासन सचिव ने दिया 10 हजार लीटर दूध संकलन का लक्ष्य, अजमेर से आ रहे दूध को बंद किया जाएगा