साल की सर्वश्रेष्ठ भारतीय महिला खिलाड़ी पुरस्कार की दौड़ में सिंधू और मीराबाई चानू

16

नई दिल्ली। दो बार की ओलंपिक पदक विजेता बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधू और टोक्यो ओलंपिक की रजत पदक विजेता भारोत्तोलक मीराबाई चानू बीबीसी वर्ष की सर्वश्रेष्ठ भारतीय महिला खिलाड़ी के पुरस्कार की दौड़ में हैं। इन दोनों के अलावा गोल्फर अदिति अशोक, टोक्यो पैराओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली निशानेबाज अवनि लेखरा और टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन भी दौड़ में हैं। मंगलवार को इन खिलाडय़िों के नाम की घोषणा की गई। पुरस्कार के लिए ऑनलाइन वोटिंग 28 फरवरी तक खुली है। विजेता की घोषणा 28 मार्च को की जाएगी। समारोह में लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार एक दिग्गज महिला खिलाड़ी को मिलेगा जबकि उभरती हुई महिला खिलाड़ी को उदीयमान खिलाड़ी का पुरस्कार मिलेगा।

आसानी से नहीं मिलती सफलता: सिंधू ने कहा, सफलता आसानी से नहीं मिलती है। यह कुछ महीनों की नहीं बल्कि सालों की मेहनत का नतीजा है। हर दिन एक प्रक्रिया से गुजरकर आप एक मुकाम तक पहुंचते हैं। टोक्यो ओलंपिक में सिंधू ने कांस्य पदक जीता था जबकि इससे पहले रियो ओलंपिक में रजत विजेता रही थी।

गोल्फ भारत में प्रसिद्ध, खुशी होती है : अदिति ने कहा, पिछला साल बहुत ही अच्छा रहा था। मुझे खुशी है कि भारत में गोल्फ खेल प्रसिद्ध है। मैंने कुछ अच्छे प्रदर्शन किए। इसलिए पुरस्कार के लिए मेरा नाम चयन हुआ। सम्मान देने के लिए धन्यवाद।

लिफ्ट मांगकर पहुंचती थी ट्रेनिंग सेंटर : मीराबाई ने कहा कि पुरस्कार के नाम शामिल होना गर्व की बात है। इस सफलता की राह आसान नहीं थी। रियो ओलंपिक में सही तरीके से लिफ्ट नहीं कर पाने से अवसाद में चली गई थीं। तैयारी के लिए सुबह एक ट्रक वाले से लिफ्ट मांगकर ट्रेनिंग सेंटर पर पहुंचती थीं। टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने के बाद सपना पूरा हुआ।