एक करोड़ रुपए में स्पेस कंपनी ने कराई अंतरिक्ष की सैर

23
अंतरिक्ष की सैर

6 लोग अंतरिक्ष पहुंचे, पृथ्वी से 107 किलोमीटर ऊपर गए, फिर पैराशूट से नीचे आए

अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस की स्पेस कंपनी ब्लू ओरिजिन ने गुरुवार को छह लोगों को स्पेस टूरिज्म के लिए अंतरिक्ष भेजा। कंपनी के न्यू शेपर्ड स्पेसक्राफ्ट ने टेक्सास की लॉन्च साइट वन से उड़ान भारी। यह स्पेसक्राफ्ट यात्रियों को पृथ्वी से 107 किलोमीटर ऊपर ले गया और फिर वहां से पैराशूट के जरिए लोग धरती पर वापस आए।

ब्लू ओरिजिन ने बनाया रिकॉर्ड

इस फ्लाइट के साथ ब्लू ओरिजिन ने नया वल्र्ड रिकॉर्ड भी बना लिया है। पहली बार मिस्र और पुर्तगाल के लोग स्पेस टूरिज्म का हिस्सा बने। इंजीनियर सारा साबरी अंतरिक्ष की यात्रा करने वाली पहली मिस्री और बिजनेसमैन मारियो फेरेरा अंतरिक्ष में जाने वाले पहले पुर्तगाली बने। इस यात्रा में डूड परफेक्ट के को-फाउंडर कोबी कॉटन, ब्रिटिश-अमेरिकी पर्वतारोही वैनेसा ओ ब्रायन, टेक्नोलॉजी लीडर क्लिंट केली और टेली कम्युनिकेशन एग्जीक्यूटिव स्टीव यंग भी शामिल थे।

10 मिनट में पूरी हुई यात्रा

इस स्पेस मिशन में सिर्फ 10 मिनट 20 सेकंड का ही समय लगा। इस दौरान स्पेसक्राफ्ट की अधिकतम रफ्तार 2,239 मील प्रति घंटे, यानी 3,603 किलोमीटर प्रति घंटे रही।

ऐसा होता है अंतरिक्ष का सफर

न्यू शेपर्ड स्पेसक्राफ्ट में एक रॉकेट और एक कैप्सूल है। इस कैप्सूल को प्रक्षेपित किया जाता है। लिफ्टऑफ होने के बाद से कैप्सूल के धरती पर लैंड होने तक का समय 10-11 मिनट का होता है। अंतरिक्ष यात्री इस दौरान कुछ देर तक खुद को हल्का महसूस करते हैं। पैराशूट के जरिए कैप्सूल के लैंड करने से कुछ मिनट पहले रॉकेट लैंड करता है। खास बात यह है कि यह दोनों ही रीयूजेबल हैं, यानी इन्हें दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है। यह रॉकेट स्पेसएक्स के फाल्कन 9 ऑर्बिटल रॉकेट की तरह काम करता है।

लगभग 10 करोड़ रुपए की एक टिकट

क्वाट्र्ज की रिपोर्ट के मुताबिक, ब्लू ओरिजिन के स्पेसक्राफ्ट की एक टिकट की कीमत 1.25 मिलियन डॉलर, यानी 9,89,73,750 रुपए है। यह रिचर्ड ब्रैनसन की कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक की टिकट की कीमत से कहीं ज्यादा है।

पिछले साल शुरू हुआ था मिशन

ब्लू ओरिजिन अब तक कुल छह बार लोगों को अंतरिक्ष यात्रा करा चुका है। इस तरह कंपनी ने अब तक कुल 31 लोगों को स्पेस की यात्रा कराई है। ब्लू ओरिजिन ने पिछले साल जुलाई में बेजोस समेत तीन लोगों को स्पेस भेजकर इस मिशन की शुरुआत की थी।

यह भी पढ़ें :ज्ञानार्जन के लिए किशोर अवस्था सबसे समय : महाश्रमण