डेंगू के बढ़ते मामलों के बीच इन 5 मिथकों से भी बचकर रहें!

68
डेंगू
डेंगू

नई दिल्ली। देश में डेंगू के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, जिसमें से सिर्फ दिल्ली में दो हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आए हैं। जो साल 2017 के बाद से काफी बड़ा आंकड़ा बताया जा रहा है। इस वक्त ज़रूरी है कि हम डेंगू से बचने के लिए खास सुरक्षा के कदम उठाएं ताकि हमारे घर के आसपास मच्छर न पैदा हों। घर पर मॉसकीटो नेट, रिपेलेंट स्प्रे, क्रीम्स आदि का उपयोग करें। जितना इस बीमारी से बचना ज़रूरी है, उतनी ही ज़रूरी है कि इससे जुड़े मिथकों पर विश्वास न करना और उनका सच जानना। अक्सर बीमारियों के साथ कई तरह के मिथक भी जुड़ जाते हैं, जिसकी वजह से इलाज और मेडिकल हेल्प में देर हो जाती है।

कोविड से हल्की बीमारी है डेंगू

डेंगू
डेंगू

कोरोना वायरस और डेंगू में तुलना करना ही मुमकिन नहीं है, क्योंकि ये दोनों रोग दो अलग तरह के रोगजनकों के कारण होते हैं। ये दोनों बीमारियां गंभीर हैं, एक ने दुनिया भर में महामारी का रूप लिया, तो दूसरी हर साल खास मौसम में स्वास्थ्य सुविधाओं और मानव जीवन के जोखिम पर भारी बोझ डालती है। इसकी आपस में तुलना कभी भी नहीं की जा सकती है, साथ ही इन्हें कम भी आंका नहीं जाना चाहिए।

डेंगू और कोविड साथ में नहीं हो सकते

ऐसे कई मामले देखे गए हैं, जिसमें लोग कोविड और डेंगू दोनों का एक साथ शिकार हो गए हैं। सिंगापुर में ऐसे कुछ मामले देखे गए, जिसमें मरीज़ पहले डेंगू के लिए नेगेटिव पाए गए लेकिन पास में लगातार बुखार आने पर अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा। आखिर में पता चला कि वे डेंगू और कोविड दोनों से पीडि़त थे।

डेंगू जानलेवा नहीं है

डेंगू
डेंगू

लोगों को पता होना चाहिए कि डेंगू को हड्डी तोड़ बुखार भी कहा जाता है। डेंगू में होने वाले दर्द को सहना आसान नहीं है। डेंगू बेहद ख़तरना बीमारी है, जिसके गंभीर हो जाने पर जीवन भर के लिए सेहत को नुकसान पहुंच सकते हैं।

डेंगू ज़िंदगी सिर्फ एक बार होता है

यह सही नहीं! एक व्यक्ति को जीवन में चार बार डेंगू हो सकता है। साथ ही इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि दूसरी बार डेंगू ज़्यादा गंभीर हो जाए। वायरस के चार सीरोटाइप हैं जो डेंगू का कारण बनते हैं। आम धारणा है कि संक्रमण डेंगू से आजीवन प्रतिरक्षा प्रदान करता है, जबकि यह पूरी तरह से सच नहीं है। आपको इम्यूनिटी सिर्फ उस खास टाइप के डेंगू की ही मिलती है, बाकी तीन टाइप की नहीं।

पपीते के पत्ते डेंगू को ख़त्म कर सकते हैं

ऐसा माना जाता है कि डेंगू के दौरान पपीते के पत्ते का जूस प्लेटलेट्स में सुधार करने में मदद करते हैं। हालांकि, डेंगू एक गंभीर इन्फेक्शन है, इसलिए इसके लिए सिर्फ घरेलू इलाज ही काफी नहीं हैं। मरीज़ को फौरन अस्पताल में भर्ती करवाना चाहिए और इलाज शुरू हो जाना चाहिए। सिर्फ समय पर इलाज ही एक व्यक्ति की जान बचा सकता है।

डेंगू के इन लक्षणों पर रखें नजऱ

डेंगू की शुरुआत होती है गंभीर सिर दर्द, आंखों के पीछे दर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, मतली, उल्टी, सूजी हुई ग्रंथियां और दानों से। कुछ मामलों में प्लाज़्मा के लीक होने, तरल पदार्थ जमा होने, सांस लेने में तकलीफ, गंभीर रक्तस्राव या अंग खराब होने के कारण संक्रमण गंभीर हो जाता है। मरीज़ों में पेट में तेज़ दर्द, लगातार उल्टी, तेज़ी से सांस लेना, मसूड़ों या नाक से खून आना, थकान, बेचैनी, लीवर का बढऩा, उल्टी या मल में खून आना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

यह भी पढ़ें : तिल-तिल मर रहे पाकिस्तान की फिर भारत के खिलाफ फिर नापाक साजिश