यूसीईटी के प्रबंधन संकाय के विद्यार्थियों ने किया औद्योगिक भ्रमण किया

  • औद्योगिक भ्रमण से ही प्रयोगात्मक ज्ञान का विकास संभव: डॉ यदुनाथ सिंह, निदेशक अकादमिक

बीकानेर, यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, बीकानेर के प्रबंधन संकाय के विद्यार्थियों दुवारा आज बीकानेर के पारीक कोल्ड स्टोरेज में औद्योगिक भ्रमण किया गया। विभागाध्यक्ष डॉ रूमा भदौरिया ने बताया की विशाल क्षमता वाले कोल्ड स्टोरेज, पारीक कोल्ड स्टोरेज का विद्यर्थियों ने भ्रमण किया व कोल्ड स्टोरेज की प्रणाली को समझा। इस अवसर पपर पारीक कोल्ड स्टोरेज के डायरेक्टर कैलाश पारीक व बलदेव पारीक ने कोल्ड स्टोरेज के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि पारीक कोल्ड स्टोरेज बीकानेर में सर्वाधिक क्षमता वाले कोल्ड स्टोरेज में से एक है जो 9800 स्कवेर फीट के एरिया में निर्मित है और 4000 मेट्रिक टनक्षमता रखता है। कोल्ड स्टोरेज में लगे 80 के वी के सोलर प्लांट की भी विद्यार्थियों को जानकारी दी गई। स्टोरेज के सभी चैंबर की जानकारी देते हुए बसंत किराडू ने बताया कि देश व विदेश के विभिन्न भागों से आयी, फल, सब्जी, किराना, मेवे इत्यादि अलग अलग चैंबर में आवश्यक तापमान के अनुरूप रखे जाते है। व्यापारियों व किसानों के लिए कोल्ड स्टोरेज सप्लाई चैन मेनेजमेंट की प्रमुख कड़ियो में से एक है। विद्यर्थियों ने कोल्ड स्टोरेज के अमोनिया प्लांट संचालन से संबधित जिज्ञासाओं का समाधान किया।

निदेशक अकादमिक डॉ यदुनाथ सिंह ने कहा की इस प्रकार के औद्योगिक भ्रमण से विद्यार्थियों की मानसिकता का विकास होता है और भविष्य में रोजगार में आने पर काफी मदद मिलती है। औद्योगिक भ्रमण के अंतर्गत छात्रों के बौद्धिक एवं प्रयोगात्मक ज्ञान के साथ-साथ नई तकनीक की जानकारी प्राप्त होती है, उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रम विद्यार्थियों को उद्यम स्थापित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में कौशल आधारित ज्ञान अर्जित करने में सहायक होते है। कोई भी उद्यम शुरूआत से बढ़ा नहीं होता। एक छोटी शुरूआत करनी पड़ती है। इसके लिए जरूरी है कि उद्यम एवं उत्पाद को सही जानकारी ली जाये और इसके लिए बेहतर प्रबंधन किया जाये। उन्होने औद्योगिक भ्रमण को पाठयक्रम का महत्व बताते हुए बताया कि यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी का उद्देश विद्यार्थियों का समग्र विकास है।

यह भी पढ़े: मुख्यमंत्री ने योग्यता में संशोधन का अनुमोदन किया

एसोशीएट डीन डॉ. ममता शर्मा पारीक ने बताया कि विद्यार्थियों में उद्यमिता विकस हेतु मध्यम व लघु वर्ग के उद्योगों की जानकारी विद्यार्थीओ तक पहुंचना आवश्यक है। डीन डॉ अलका स्वामी ने बताया कि विभाग में विद्यर्थियों के लिए निरन्तर रूप से इस प्रकार की गतिविधियां कराई का रही है जिसके उनको वर्तमान औद्योगिक वातावरण से जोड़ा जा सके, इस भ्रमण मे प्रबंधन संकाय के प्रोफेसर आलोक आचार्य व डॉ. हेम आहुजा भी मौजूद रहे।