कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क ही वैक्सीन: डॉ.रघु शर्मा

डॉ. रघु शर्मा, raghu sharma
डॉ. रघु शर्मा, raghu sharma

टोंक जिला मुख्यालय पर जागरूकता मोटर साईकिल रैली को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना

जयपुर । चिकित्सा एवं स्वास्थ्य तथा सूचना एवं जनसम्पर्क मंत्री एवं टोंक जिला प्रभारी डॉ.रघु शर्मा ने कहा कि कोविड-19 महामारी में आम आदमी को बचाना सरकार का लक्ष्य है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क ही वैक्सीन है। यह बात आम आदमी को समझनी होगी। इसलिए सरकार ने पूरे राज्य में एक माह के लिए जन जागरूकता आन्दोलन चलाया है। इस जन आन्दोलन में जनता के सहयोग से ही कामयाबी मिल सकती है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों, एनजीओ, भामाशाह, समाजसेवियों, एनएसएस, एनसीसी, शिक्षकों से कहा कि इस अभियान को जन-जन तक पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोडे। हर व्यक्ति को मास्क लगाने के लिए प्रेरित करें। 

कोरोना वायरस से बचाव एवं रोकथाम के लिए राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई जन आन्दोलन की मुहिम के तहत सोमवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने टोंक जिला मुख्यालय पर जागरूकता मोटर साईकिल रैली को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। जिसके तहत आमजन को कोरोना वायरस के प्रति जागरूक करने का काम किया जाएगा। इसका मकसद कोरोना वायरस के बढते संक्रमण को नियन्ति्रत करना है। इस जन आन्दोलन के लिए राज्य सरकार द्वारा एक करोड़ मास्क बनवाए गए है और जरूरत पड़ने पर मास्क की कमी नहीं आने दी जाएगी। 

इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए डॉ.शर्मा ने कहा कि राजस्थान में पहला कोरोना पॉजिटिव केस आने के समय इस महामारी से लडने के लिए हैल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर नहीं था। लेकिन विगत सात माह में राज्य सरकार ने हैल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने का कार्य किया है। आज हम कह सकते है कि राजस्थान में पर्याप्त मात्रा में वेंटिलेटर, आईसीयू बैड, ऑक्सीजन सपोर्ट बैड एवं सामान्य बैड की सुविधा है। 

टोंक जिला प्रभारी मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन हटाने के पश्चात पॉजिटिव केस की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। जिसे देखते हुए राज्य में दुबारा लॉकडाउन लगाने की मांग उठने लगी थी। लेकिन प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने सभी राजनैतिक दलों, प्रतिष्ठित डॉक्टरों एवं प्रबुद्धजनों से बात कर यह निर्णय लिया कि लॉकडाउन लगाना राज्य व देश के हित में नहीं है। लॉकडाउन इस महामारी से बचाव का स्थाई समाधान नहीं है। डॉक्टर्स के अनुसार अगर राजस्थान की 7 करोड़ जनता एक महिने तक मास्क लगाए तो इस संक्रमण की चैन को तोड़ा जा सकता है। इसलिए सभी लोगो को सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाना बेहद जरूरी है। इसके साथ ही दो गज की दूरी, साबुन से बार-बार हाथ धोना, सार्वजनिक स्थानों पर नहीं थूंकना की पालना की जाए तो इस महामारी पर काबू पाया जा सकता है। 

टोंक जिला प्रभारी मंत्री ने कहा कि इस महामारी के दौर में सरकार हर कदम पर आमजन के साथ खडी है। राजस्थान में इस बीमारी की रिकवरी रेट 84 प्रतिशत है, जो देश के दस बडे राज्यो में सबसे बेहतर है। मृत्यु दर निरन्तर कम हो रही है। लेकिन हमें सतर्क रहने की जरूरत है। यह वायरस शरीर के अंगो पर बुरा प्रभाव डालता है। इसलिए बचाव ही उपाय है। उन्होंने कहा कि प्लाजमा थैरेपी भी राज्य में सात स्थानों पर शुरू की गई थी। जिसके परिणाम सुखद रहे हैं। चिकित्सा विभाग में 765 डॉक्टरों की भर्ती पूर्व में की जा चुकी है, 2 हजार डॉक्टर की भर्ती चल रही है। एएनएम एवं जीएनएम के 12 हजार 500 पद, लैब टेक्नीशियन, सहायक रेडियोग्राफर के पद भरें जा रहे है। विगत सात माह में राज्य में 38 स्थानों पर टेस्टिंग की सुविधा शुरू की गई है। जिसमें 22 जिले कवर हुए है। 

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि टोंक जिले में इस माह में टेस्टिंग की सुविधा शुरू की जाएगी। साथ ही ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट भी लगाया जाएगा। ताकि इस महामारी से मुकाबला बेहतर ढंग से किया जा सके। उन्होंने कहा कि जिले के हैल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने में सरकार की ओर से कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। 

टोंक जिला प्रभारी मंत्री ने कोरोना महामारी के दौरान आमजन को मास्क, सेनेटाइजर, थर्मल स्कैनर, ड्राईफूड के पैकेट एवं अन्य चिकित्सा उपकरण उपलब्ध कराने वाले भामाशाहों एवं दानदाताआें को स्मृति चिन्ह एवं प्रमाण पत्र भेंट कर सम्मानित किया।

विधायक निवाई-पीपलू श्री प्रशांत बैरवा ने कहा कि कोरोना महामारी से बचाव के लिए सरकार द्वारा चलाए जा रहे जन आन्देालन मेंं सभी अपनी भागीदारी निभाएं। ताकि इस अभियान को सफल बनाया जा सके। विधायक देवली-उनियारा श्री हरीश मीणा ने कहा कि कोरोना काल में सरकार ने लोगों के जीवन को बचाने में कोई कोर कसर नही छोडी है। लोगों की भी जिम्मेदारी है कि वे सरकार की गाइडलाइन का पालन करें। यह हम सभी के हित में है। टोंक जिला कलेक्टर श्री गौरव अग्रवाल ने जिले में कोविड-19 की स्थिति के बारें में संक्षिप्त जानकारी दी। अजीम प्रेमजी फाउण्डेशन के कम्यूनिटी थियेटर द्वारा कोरोना जागरूकता को लेकर कोरोना काल रखो अपना ख्याल लघु नाटक को प्रस्तुत किया। 

मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केन्द्र में किया मास्क वितरण
टोंक जिला प्रभारी मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य केन्द्र में आमजन को मास्क लागने के लिए प्रेरित करते हुए मास्क वितरित किये। उन्होंने लोगों से कहा कि मास्क लगाकर आप स्वयं और दूसरों का जीवन बचा सकते है। इस दौरान उन्होंने जिला कलेक्टर गौरव अग्रवाल से लोगों को मास्क वितरण में कोई कमी नहीं आने के निर्देश दिये। जिला प्रभारी मंत्री ने इंदिरा रसोई का निरीक्षण कर वहां भोजन कर रहे लोगों से भोजन की गुणवत्ता के संबंध में बात की। लोगों ने भोजन की गुणवत्ता को बेहतर बताया। 

फ्लैगशिप योजनाओं से पात्र व्यक्ति को मिले लाभ 
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री एवं टोंक जिला प्रभारी मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं से पात्र व्यक्ति को लाभ मिले। सोमवार को जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान उन्होंने योजनाओं में प्रगति लाने के निर्देश दिये। अतिक्रमण हटाओ अभियान की सराहना करते हुए जिला प्रभारी मंत्री ने एक्शन प्लान बनाकर इन स्थानों को पब्लिक डिमाण्ड को ध्यान में रखते हुए मनरेगा के तहत काम स्वीकृत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के कारण अन्य विभागों की योजनाओं में देरी न हो।

उन्होंने पालनहार योजना, सार्वजनिक निर्माण विभाग, जिला परिषद, कृषि विभाग, उद्योग विभाग, विद्युत विभाग, जलदाय विभाग की योजनाआें की समीक्षा की। डीएमएफटी की बैठक में जिला प्रभारी मंत्री ने डीएमएफटी कोष में मौजूद 6 करोड़ 71 लाख रूपये का उपयोग टोंक जिले के स्वास्थ्य क्षेत्र एवं विद्यालयों में बालिकाओं के लिए अलग शौचालय की सुविधा उपलब्ध कराने में करने के निर्देश दिये। बैठक में विधायक निवाई-पीपलू श्री प्रशांत बैरवा, विधायक मालपुरा-टोडारायसिंह श्री कन्हैयालाल चौधरी, टोंक जिला कलेक्टर श्री गौरव अग्रवाल, पुलिस अधीक्षक ओम प्रकाश, सीईओ नवनीत कुमार, एडीएम सुखराम खोखर, एएसपी विपिन शर्मा, उपखण्ड अधिकारी नित्या के, नगर परिषद आयुक्त सचिन यादव सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे। 

देवली राजकीय अस्पताल का किया निरीक्षण 
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने सोमवार को सुबह देवली राजकीय अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अस्पताल के लिए स्वीकृत 100 बैड की सुविधा होने के बावजूद मौके पर आधे बैड भी नहीं मिलने पर उन्होंने नाराजगी प्रकट करते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं अस्पताल प्रभारी को स्थितियाें में सुधार लाने के निर्देश दिये। प्रभारी मंत्री डॉ.शर्मा ने जनरल वार्ड का निरीक्षण कर वहां भर्ती मरीजों एवं उनके परिजनों से चिकित्सा सुविधाओं के संबंध में बात की।