धरती पर तीन रत्न – पानी, अनाज और सुभाषित : आचार्य महाश्रमण

61

हिसार। अपने मंगल दर्शन और अमृतमयी वाणी से पावन पाथेय प्रदान कर जन-जन के मानस को पावन बनाने वाले जैन श्वेताम्बर तेरापंथ धर्मसंघ के ग्यारहवें अनुशास्ता, अहिंसा यात्रा के प्रणेता आचार्यश्री महाश्रमणजी सोमवार को हिसार जिले के आर्यनगर में पधारे। वर्षों बाद अपने नगर में अपने आराध्य को प्राप्त कर श्रद्धालुओं का उत्साह चरम पर था। उत्साही श्रद्धालु अपने गुरु के स्वागत में नगर के बाहरी भाग में एकत्रित थे। भव्य स्वागत जुलूस संग आचार्यश्री अपने एक दिवसीय प्रवास हेतु आर्यनगर स्थित राजकीय प्राथमिक पाठशाला में पधारे। सोमवार को प्रात: की मंगल बेला में आचार्यश्री महाश्रमणजी ने हिसार के अग्रसेन भवन से मंगल प्रस्थान किया। विहार के दौरान अनेक लोगों ने आचार्यश्री के दर्शन का लाभ प्राप्त किया। कितनों को आचार्यश्री से मंगलपाठ और पावन पथदर्शन करने का भी सौभाग्य प्राप्त हो गया। तेज धूप में लगभग दस किलोमीटर का विहार कर आचार्यश्री आर्यनगर स्थित प्राथमिक पाठशाला में पधारे।

मुख्य प्रवचन कार्यक्रम में उपस्थित श्रद्धालुओं को आचार्यश्री ने अपनी अमृतवाणी का रसपान कराते हुए कहा कि शरीर को टिकाए रखने के लिए हवा, पानी और भोजन की आवश्यकता होती है। जीवन में प्रथम कोटि की आवश्यकता होती है, जिसमें पहले हवा, फिर पानी और अंत में भोजन। आदमी को कई दिनों तक भोजन न मिले तो भी वह जीवित रह सकता है। पानी के बिना भी वह कुछ दिनों तक जीवित रह सकता है, किन्तु हवा के बिना तो कोई भला कितनी देर जीवित रह सकता है। इसलिए मानव जीवन में हवा की अत्यंत आवश्यकता है। शास्त्रों में धरती पर तीन प्रकार के रत्न बताए गए हैं-पानी, अनाज और सुभाषित। मूर्ख लोग पत्थरों को रत्न मान लेते हैं। आदमी पत्थर के रत्नों के बिना तो रह सकता है, किन्तु हवा, भोजन और पानी के भला वह कब तक जिन्दा रह सकता है। शास्त्रों के माध्यम से ऐसे सुभाषित (सुन्दर वाक्य) आदि प्राप्त हो सकते हैं, जिससे मानव जीवन की दशा और दिशा बदल सकती है।

जीवन में दूसरी कोटि की आवश्यकता है-कपड़ा और मकान। तीसरी कोटि की आवश्यकता है-शिक्षा और चिकित्सा। ये तीन स्तर की आवश्यकताएं मानव जीवन के लिए आवश्यक होती हैं। इन आवश्यकताओं के लिए आदमी को प्रयत्न करना होता है। आदमी अपनी मेहनत और लगन से अपनी आवश्यकताओं की पूति करे तो अच्छी बात है, किन्तु नशीले पदार्थों के सेवन आदि में अनावश्यक जाने से बचने का प्रयास करना चाहिए। आचार्यश्री ने अहिंसा यात्रा के दौरान बिहार सरकार द्वारा शराबबन्दी किए जाने पर बिहार के मुख्यमंत्री व तत्कालीन राज्यपाल व वर्तमान में भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की चर्चा करते आचार्यश्री ने उपस्थित श्रद्धालुओं को नशामुक्त जीवन जीने के लिए भी अभिप्रेरित किया।

कार्यक्रम में देवराज जैन, स्थानीय सभा के मंत्री प्रदीपकुमार जैन, अमित कुमार जैन, मंजू जैन, संजय जैन, राजकीय प्राथमिक पाठशाला के अध्यापक अनूपकुमार सिंह तथा जैन विश्व भारती की कुलाधिपति सावित्री जिन्दल ने अपनी आस्थासिक्त अभिव्यक्ति दी। ज्ञानशाला के ज्ञानार्थियों ने अपनी भावपूर्ण प्रस्तुति दी। तेरापंथ कन्या मण्डल-आचार्यनगर ने गीत का संगान किया। बालिका तन्वी ने नृत्य प्रस्तुति दी।