विराट कोहली ने किया खुलासा- निर्देश देने के बजाय नेतृत्व करना पसंद करता हूं

17
Virat Kohli, captain of Indian cricket team, communicating in a virtual live motivational session organized by EO Jaipur
Virat Kohli, captain of Indian cricket team, communicating in a virtual live motivational session organized by EO Jaipur

ईन्टरप्रिन्योर संगठन (ईओ) वर्चुअल इवेंट

जयपुर। ईओ जयपुर द्वारा आयोजित एक वर्चुअल लाइव मोटिवेशनल सैश्न में मंगलवार को आज भारतीय क्रिकेट के महान कप्तानों में से एक विराट कोहली ने इस बात का खुलासा किया कि हर किसी के काम करने के तरीके अलग-अलग होते हैं। मैं निर्देश देने के बजाय सामने से नेतृत्व करना पसंद करता हूं, मैं एक उदाहरण सेट करने के लिए चीजें करता हूँ। मैंने लोगों को सही कारणों से खेलने के लिए प्रोत्साहित किया है, यह हर क्षेत्र पर लागू होता है। यह सैश्न इस वर्ष की थीम ’अनस्टॉपेबल’ पर आयोजित किया गया था। ईओ जयपुर चैप्टर के अध्यक्ष, आयुष पेरीवाल ने कहा कि ईओ जयपुर, उन ईन्टरप्रिन्योरज़ का एक समूह है जो नवाचार करने और नेतृत्व करने के माध्यम से आईटी, मीडिया, आभूषण, विनिर्माण, खनन आदि विभिन्न गतिविधियों से जुडे हैं और दुनिया भर में परिवर्तन लाने के लिए भावुक हैं।

भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली कहा कि जब आप दूसरों की नकल करने की कोशिश करते हैं तो आप बेईमान हो जाते हैं। हर कोई गलती करता है, लेकिन आपको अपनी गलतीयां स्वीकारनी चाहिए। मैं कभी उपलब्धि के लिए नहीं खेला बल्कि खेल से प्यार के लिए खेलता हूं।

विराट कोहली कहा कि जब आप दूसरों की नकल करने की कोशिश करते हैं तो आप बेईमान हो जाते हैं

यदि आप रिकॉर्ड बनाने के लिए खेलते हैं, तो आप अपनी पहचान खो देते हैं। ईओ जयपुर चैप्टर के लर्निंग चेयर अंकुर शाह और सौरभ भंडारी ने बताया कि सैश्न में न केवल ईओ के सदस्यों बल्कि उनके बच्चों ने भी भाग लिया जिनमें से कई किशोर थे और आगे भी इसी तरह के मोटिवेशनल सैश्न आयोजित किए जाएंगे।

कोहली ने आगे कहा कि मैं हमेशा जिम्मेदारियां लेना और उनको पूरा करना पसंद करता हूँ, केवल तभी आप दूसरों का नेतृत्व करने में सक्षम होंगे। मदद अच्छी है, सुझाव अच्छे हैं, लेकिन किसी की बात पर आँख बंद करके पालन करना नहीं चाहिए। अपनी प्रेरणा पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हैं बताते हुए उन्होंने कहा कि मैंने देखा है कि कैसे वो मैदान पर हर चीज व्यवस्थित किया करते थे और मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा है मगर आज मैं चीजें अपने तरीके से ही करता हूँ।

यह भी पढ़ें+- विराट कोहली की तरह ही शानदार कप्तान साबित होंगे बेन स्टोक्स: नासिर हुसैन

एक समय था जब मुझे लगा मैं कड़ी मेहनत नहीं कर रहा, मैं खुद को बदलना चाहता था तब एक दिन मैंने अपनी इच्छा शक्ति का ईमानदारी से पालन करना शुरु किया और मेरी जिंन्दगी बदल गई। मैं हमेशा एक जिम्मेदार खिलाड़ी रहा हूँ और ज़िम्मेदारी लेना पसंद करता हूँ इसलिए मैंने हमेशा कप्तानी को एक खिलाड़ी से उपर दर्जा दिया है।