जहां राम-कृष्ण हैं, वहां कुछ भी असंभव नहीं : संत प्रेमसागर

12

बांसवाड़ा। तेजपुर ग्राम स्थित श्री सांवरिया सेठ मन्दिर में चल रहे श्रीमद् भागवत कथा का मंगलवार को समापन होगा। जिसमें 108 भागवत कथा धर्म प्रचारक अलंकरण से सम्मानित तेजु महाराज की प्रेरणा से श्रीमद् भागवत में संत प्रेमसागर महाराज व्यासपीठ से कथा श्रवण करा रहे है।

सात दिवसीय धार्मिक आयोजन के अन्तर्गत संत प्रेमसागर महाराज ने अपने उद्बोधन में कहा कि जहां भगवान राम-कृष्ण स्वयं है वहां कुछ भी असम्भव नहीं है। यदि उनकी कृपा न हो तो सत्संग करना भी कठिन है। सन्त ने कहा कि हम अन्धकार को क्यों धिक्कारे हम उसे दूर करने के लिए मिलकर दीप जलाए जिससे स्वयं भी रोशन हो।

जगत में व्याप्त बुराई कुरीतियों रूपी अन्धकार को दूर कर सकें। मन्दिर व्यवस्थापक ने इस भागवत आयोजन में अधिकाधिक संख्या में भाग लेने का आव्हान किया और बताया कि व्यासपीठ का पूजन स्थानीय भक्तजनों एवं धर्मप्रेमियों द्वारा किया गया।

यह भी पढ़ें-मंत्री तो बहुत है, लोग मेरे पास सीएम का फोटो लगा अखबार लेकर आते हैं, क्योंकि मेरे दरवाजे खुले रहते हैं : खाचरियावास