किसी भी गरीब का घर उजड़ने नहीं देंगे : बिरला

लोकसभा अध्यक्ष ने जनसुनवाई के दौरान सुनी समस्याएं

कोटा। संसदीय क्षेत्र कोटा-बूंदी के 11 दिवसीय प्रवास पर आए लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सोमवार को जनसुनवाई की। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग अपनी समस्याओं को लेकर स्पीकर बिरला से मिलने पहुंचे। बिरला ने सबको ध्यान से सुना और अधिकारियों को समाधान के निर्देश दिए।

शक्ति नगर स्थित लोकसभा कैंप कार्यालय में आयोजित जन सुनवाई के दौरान बड़ी संख्या में आए घोड़ा बस्ती के लोगों ने कहा कि उनको पट्टे नहीं दिए जा रहे हैं। यूआईटी के अधिकारी बार-बार उनको हटाने की कोशिश करते हैं। इस पर बिरला ने कहा कि किसी भी गरीब के घर को उजड़ने नहीं दिया जाएगा। पट्टे के लिए भी वे संबंधित अधिकारियों से बात करके कारणों की जानकारी लेंगे तथा उन्हें दूर करवाने का प्रयास करेंगे।

बृज मंडल के लोगों ने लोकसभा अध्यक्ष बिरला से कोटा से सीधे हाथरस के लिए ट्रेन सुविधा उपलब्ध करवाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि बुलन्दशहर, हापुड़, खुर्जा, हाथरस तथा आसपास के जिलों के लोग बड़ी संख्या में कोटा निवास करते हैं। इसके अलावा इन जगहों के विद्यार्थी भी कोटा पढ़ने आते हैं। सीधी ट्रेन नहीं होने के कारण उन्हें आवागमन में परेशानी होती है। स्पीकर बिरला ने उसी समय उन लोगों की बात फोन पर रेल मंत्रालय के बड़े अधिकारियों से करवाई तथा ट्रेन के लिए संभावना तलाशने के निर्देश दिए।

सांगोद क्षेत्र से आए ग्रामीणों ने स्पीकर बिरला से सांगोद से गलाना गांव तक सड़क निर्माण की मांग रखी। ग्रामीणों ने बताया कि कार्यादेश हुए दो साल होने के बावजूद ठेकेदार सड़क नहीं बना रहा है। स्पीकर बिरला ने अधिकारियों से बात की तो उन्होंने कहा कि ठेकेदार सड़क बनाने से इनकार कर चुका है। इस पर स्पीकर बिरला ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि अब तक रिटेंडर क्यों नहीं करवाए गए। बिरला ने कहा कि अधिकारी तुरन्त सड़क निर्माण के लिए आवश्यक कार्यवाही करें। ग्रामीणों को परेशानी नहीं होनी चाहिए।

रेलवे के सेवानिवृत रनिंग कर्मचारी भी स्पीकर बिरला के पास वेतन विसंगति को दूर करवाने का आग्रह लेकर पहुंचे। बिरला ने कहा कि वे इस बारे में शीघ्र ही नियमानुसार कार्यवाही करवाएंगे। इसके अलावा भी बड़ी संख्या में लोग उपचार, स्कूल व काॅलेज की फीस, विकास कार्यों तथा अन्य समस्याओं के समाधान का आग्रह लेकर स्पीकर बिरला से मिले।

यह भी पढ़ें-मेरे मन में अनगिनत भाव है और मेरे हाथ में उन भावों की अभिव्यक्ति करते मेरे शब्द : अंशु हर्ष