नाम वापसी के बाद सदस्य पद के लिए 9930 उम्मीदवार चुनावी मैदान में

7

जयपुर। प्रदेश के 20 जिलों के 90 निकायों (1 नगर निगम, 9 नगर परिषद और 80 नगर पालिका) में सदस्य पदों के लिए होने वाले चुनाव में नाम वापसी के बाद कुल 9930 उम्मीदवार चुनावी मैदान में रह गए हैं।

मुख्य चुनाव आयुक्त पीएस मेहरा ने बताया कि नाम वापसी की आखिरी तिथि तक 2341 प्रत्याशियों ने नाम वापस लिए, जबकि 50 उम्मीदवार निर्विरोध निवार्चित हो चुके हैं। इन सभी निकायों में 28 जनवरी को प्रातः 8 से सायं 5 बजे तक मतदान होगा, जबकि मतगणना 31 जनवरी, प्रातः 9 बजे से होगी।

मेहरा ने बताया कि सदस्य पद के लिए 11 जनवरी को लोक सूचना जारी होने के साथ नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। नामांकन पत्र भरने की अंतिम अंतिम तिथि तक 15101 उम्मीदवारों द्वारा 18510 नामांकन पत्र दाखिल किए गए। उन्होंने बताया कि नामांकन पत्रों की संवीक्षा और नाम वापसी के बाद अब 9930 उम्मीदवार चुनावी मैदान में शेष रह गए हैं।

30 लाख से ज्यादा मतदाता करेंगे उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला
चुनाव आयुक्त श्री पीएस मेहरा ने बताया कि प्रदेश के 20 जिलों (अजमेर, बांसवाड़ा, बीकानेर, भीलवाड़ा, बूंदी, प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, चूरू, डूंगरपुर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, जालौर, झालावाड़, झुंझुनूं, नागौर, पाली, राजसमंद, सीकर, टोंक और उदयपुर) के 90 निकायों (1 नगर निगम, 9 नगर परिषद और 80 नगर पालिका) में से 87 नगर निकायों की निर्वाचक नामावली का अंतिम प्रकाशन 20 जुलाई 2020 को जबकि 3 निकायों की नामावलियों का प्रकाशन 19 नवंबर को किया जा चुका है। 1 जनवरी 2021 की अर्हता के संबंध में 4 जनवरी तक जोड़े गए नामों के बाद कुल 30 लाख 28 हजार 544 मतदाता हैं, जिनमें से 15 लाख 47 हजार 974 पुरुष, 14 लाख 80 हजार 514 महिला और 56 अन्य मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि 3035 वार्डों के लिए 5253 मतदान केंद्रों पर मतदान होगा।

चुनाव प्रचार के दौरान हो कोविड गाइड लाइन की कड़ाई से पालना
चुनाव आयुक्त ने कहा कि नाम वापसी के बाद प्रचार का दौर बढ़ जाएगा, ऐसे में किसी भी हाल में कोविड के दिशा-निर्देशों की अवहेलना ना हो। उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान उम्मीदवार या उसके समर्थक किसी के गले नहीं लगे, किसी के पैर ना छूएं और ना ही किसी से हाथ मिलाएं। प्रचार के दौरान केंद्र, राज्य, आयोग और स्थानीय प्रशासन द्वारा कोरोना संबंधी जारी दिशा-निर्देशों की कड़ाई से पालना जरूरी है। उन्होंने कहा कि आयोग की मंशा पूर्ण रूप से सुरक्षित और शांतिपूर्ण मतदान कराने की है। ऐसे में आमजन का सहयोग अनिवार्य है।

अध्यक्ष के लिए 1 फरवरी को होगी अधिसूचना जारी
मेहरा ने बताया कि सदस्य पदों की मतगणना के बाद 1 फरवरी को अध्यक्ष के लिए लोक सूचना जारी होगी। नामांकन पत्र 2 फरवरी अपराह्न 3 बजे तक प्रस्तुत किए जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि नामांकन पत्रों की संवीक्षा की तिथि 3 फरवरी को होगी, जबकि 4 फरवरी को अपराह्न 3 बजे तक अभ्यर्थिता वापिस ली जा सकेगी। चुनाव चिन्हों का आवंटन नाम वापसी के तुरंत बाद 4 फरवरी को ही किया जाएगा। अध्यक्ष के लिए मतदान 7 फरवरी को प्रातः 10 बजे से अपराह्न 2 बजे तक होगा, जबकि मतगणना मतदान समाप्ति के तुरन्त बाद होगी। उन्होंने बताया कि इसी तरह उपाध्यक्ष के लिए निर्वाचन 8 फरवरी को होगा।