वास्तु शास्त्र के अनुसार अपने बच्चों को कैसे करे पढ़ाई में तेज? जानें!

8

आमतौर पर हम देखते हैं कि आजकी बच्चे पढ़ाई से जी चुराते हैं और पढऩे ज्यादा बच्चे खेलना पसंद करते हैं। यह केवल आपके घर में ही नहीं बल्कि लगभग 99.99 प्रतिशत घरों के बच्चों का यही हाल है।

अगर आप अपने बच्चों को डांटकर या जोर-जबरदस्ती पढऩे के लिए कहेगी तो आपके बच्चे पढ़ाई से दूर हो जाएंगे। इसलिए जरुरी है कि आप समझदारी से काम लें। और अपने बच्चों को समझाएं तथा कुछ ऐसे उपाय अपनाएं जिनसे आपके बच्चों का पढ़ाई में मन लगने लगे। तो आइए आप भी जानें ऐसे ही कुछ उपायों के बारे में।

सबसे पहली बात अगर आपके बच्चे बहुत छोटे हैं तो उन्हें गायत्री मंत्र बोलने का अभयास करवाएं। अगर संस्कृत के उच्चारण में असुविधा होती है तो आप बच्चों को अपने पास बैठायें और बोल-बोल कर उन्हें गायत्री मंत्र सुनाएं। इससे आपके बच्चों को गायत्री मंत्र जल्दी ही याद हो जाएगा। प्रतिदिन कम से कम पांच बार आप अपने बच्चों को गायत्री मंत्र का जाप अवश्य करवाएं।

गायत्री मंत्र के जाप से बच्चों को पढ़ा हुआ जल्दी ही याद होगा और उनकी बुद्धि जल्दी ही विकसित होगी। और बच्चों के दिमाग का विकास होगा। अब तो अधिकतर डॉक्टरों और कई वैज्ञानिकों ने भी ये सिद्ध कर दिया है कि गायत्री मंत्र का जप करने से दिमाग तेज होता है। और हम लोग यानि गायत्री का जप करने वाले बुद्धिमान बनते हैं।

साथ ही जब भी आपके बच्चे पढाई कर रहे हो तो कोशिश करें कि पूर्व दिशा की ओर उनका मुख रहें। और साथ ही जहां पर भी आपके बच्चो पढ़ाई करते हो वहां पर आपको मोरपंख की स्थापना जरुर कर देनी चाहिए। इससे आपके बच्चे को नजर भी नहीं लगेगी। और बच्चों का पढ़ाई में मन भी लगेगा।

साथ ही साथ एक हरे रंग का तोता का एक पोस्टर आप बाजार से ले आइए। और अपने घर की उत्तरी दीवार में टांग दीजिए। ऐसा करने से वास्तु के अनुसार आपके बच्चों का पढाई में मन लगने लगेगा। और उसकी पढ़ाई की तरफ रूचि बढेगी। और बच्चे की स्मरण शक्ति भी तेज हो जाएगी। और साथ ही साथ तोता घर में रखने से बुध ग्रह की अनुकूलता बढ़ती है। और बुद्धि का विकास होता है।