वास्तु के अनुसार घर का रखें ख्याल, बनी रहेगी शांति

182

वास्तु के अनुसार किसी भी घर में संपन्नता तब आती है जब उस घर में रहने वाले लोगों के बीच हंसी-खुशी का माहौल होता है। जब घर के सदस्यों के रिश्ते तनावमुक्त होते हैं तो कारोबार या नौकरी पर पूरी तरह ध्यान दिया जा सकता है।

घर में कलह के कई कारण हो सकते हैं। जिनमें वास्तु दोष भी मुख्य भूमिका निभाता है। कई बार जाने अनजाने में ऐसी गलतियां हो जाती हैं जिससे पारिवारिक जीवन खराब होने लगता है।

घर में कलह या झगड़े से बचने के लिए किसी भी देवी-देवता की एक से अधिक तस्वीरें ना लगाएं. इसके अलावा किसी भी देवी-देवता की तस्वीर को आमने-सामने नहीं लगाना चाहिए।

घर में रामायण, महाभारत, युद्ध एवं उल्लू आदि की तस्वीरें नहीं लगानी चाहिए. घर को हमेशा शांत, सौम्य और हरी-भरी तस्वीरों से सजाना चाहिए इससे घर में शांति बनी रहती है।

घर में कन्याओं के लिए उत्तर पश्चिम दिशा में कमरा बनवाना चाहिए। इससे कन्याओं का स्वभाव शांत रहता है। साथ ही विवाह संबंधी परेशानी भी दूर होती है।

वास्तु के अनुसार कभी भी जंगली जानवर जैसे शेर, चीता आदि हिंसक पशुओं की तस्वीरों को घर में लगाने से बचना चाहिए। इस तरह का तस्वीरें घर में लगाने से नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। घर के लोगों पर भी इसका नकारात्मक प्रभाव होता है और एक-दूसरे के प्रति द्वेष की भावना बढ़ती है।

जिन लोगों को नृत्य से लगाव होता है वे नटारज की मूर्ति अपने घर में अवश्य रखते हैं. वास्तु के अनुसार नटराज की मूर्ति घर में नहीं रखनी चाहिए. नटराज की मूर्ति में भगवान शिव तांडव की मुद्रा में रहते हैं. शिव जी का यह रूप विनाशकारी है. इसलिए नटराज की मूर्ति या तस्वीर घर में नहीं रखनी चाहिए।

दाम्पत्य जीवन में शांति के लिए राधा कृष्णा का चित्र शयनकक्ष में लगाएं. घर के जिस हिस्से में वास्तु दोष है उस स्थान पर घी में सिंदूर मिलाकर उससे स्वस्तिक दीवार पर बनाने से वास्तु दोष कम होता है।

शयनकक्ष के एक कोने में सेंधा नमक या खड़े नमक का एक टुकड़ा रख दें और इस टुकड़े को पूरे एक महीने तक उसी कोने में रहने दें. एक महीने के बाद पुराने नमक के टुकड़े को हटाकर नया टुकड़ा रख दें. ऐसा करने से एक तो घर में शांति बनी रहेगी।