एपल का नया माइलस्टोन: 224 लाख करोड़ रुपए के साथ बनी दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी

54

वॉलमार्ट, नेटफ्लिक्स से भी हुई आगे

नई दिल्ली। एपल का मार्केट कैप 3 ट्रिलियन डॉलर को पार कर गया है। ये मार्केट कैप भारत की इकोनॉमी से कहीं ज्यादा है। साल 2022 के पहले कारोबारी सत्र, यानी सोमवार को एपल का मार्केट कैप इतिहास में पहली बार 3 ट्रिलियन डॉलर, यानी 3 लाख करोड़ डॉलर (करीब 224 लाख करोड़ रुपए) के पार पहुंच गया। वहीं भारत की जीडीपी की बात करें तो यह करीब 2.65 ट्रिलियन डॉलर है। साल के कारोबार के पहले दिन, सिलिकॉन वैली की इस कंपनी के शेयर 182.88 डॉलर के इंट्राडे रिकॉर्ड हाई लेवर पर पहुंचे, जिससे एपल का मार्केट वैल्यू 3 ट्रिलियन डॉलर से थोड़ा ऊपर हो गया।

स्टॉक ने 2.5 प्रतिशत की बढ़त के साथ 182.01 डॉलर पर कारोबार खत्म किया, जिसमें एपल का मार्केट कैपिटलाइजेशन 2.99 ट्रिलियन डॉलर था। दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी उस मील के पत्थर पर पहुंच गई जहां निवेशकों ने शर्त लगाई थी कि कस्टमर आईफोन, मैकबुक्स और एपल टीवी और एपल म्यूजिक जैसी सर्विस के लिए पेमेंट करना जारी रखेंगे। अगस्त 2018 में 1 ट्रिलियन डॉलर की बनी कंपनी : एपल का मार्केट वैल्यू का कीर्तिमान और भी अधिक उल्लेखनीय है कि कैसे उसमें बढ़ोतरी इतनी तेजी से हुई है। अगस्त 2018 में एपल 1 ट्रिलियन डॉलर मूल्य की पहली अमेरिकी कंपनी बनी। इस उपलब्धि में 42 साल लगे। दो साल बाद यह 2 ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा हो गया। इसके अगले ट्रिलियन डॉलर मार्केट कैप होने में सिर्फ 16 महीने और 15 दिन लगे।
माइक्रोसॉफ्ट भी दौड़ में शामिल : टेक दिग्गज माइक्रोसॉफ्ट इस साल के 3 ट्रिलियन डॉलर क्लब में शामिल हो सकता है। जनवरी 2007 में जब एपल ने आईफोन पेश किया तो कंपनी की कीमत 73.4 बिलियन डॉलर थी। इस कीर्तिमान को हासिल करने के बाद वॉलमार्ट, डिज्नी, नेटफ्लिक्स, नाइकी, एक्सॉन मोबिल, कोका-कोला, कॉमकास्ट, मॉर्गन स्टेनली, मैकडॉनल्ड्स, ्रञ्ज&ञ्ज, गोल्डमैन सैक्स, बोइंग, आईबीएम और फोर्ड की तुलना में एपल का बाजार मूल्यांकन बढक़र कहीं ज्यादा हो गया है। गौरतलब है कि बीते दिनों इसके शेयरों में उछाल के साथ इस जादुई आंकड़े तक पहुंचने के लिए एपल को थोड़ी बढ़त की जरूरत थी, जिसे कंपनी ने हासिल कर लिया।

एपल ने इस उपलब्धि को पाकर भारत और ब्रिटेन को पीछे छोड़ दिया है। दरअसल, 3 ट्रिलियन की कंपनी बनने के बाद इसकी वैल्यू भारत और ब्रिटेन की नॉमिनल जीडीपी से ज्यादा हो गई है। गौरतलब है कि अमेरिका की नॉमिनल जीडीपी का आकार 20.49 ट्रिलियन डॉलर है। इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर चीन, तीसरे नंबर पर जापान और चौथे नंबर पर जर्मनी है। वहीं ब्रिटेन 2.83 ट्रिलियन डॉलर के साथ पांचवें, फ्रांस 2.78 ट्रिलियन डॉलर के साथ छठे और भारत 2.65 ट्रिलियन डॉलर के साथ सातवें नंबर पर है। इस तरह एपल इस मार्केट कैप के हिसाब से दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी इकोनॉमी बन चुकी है।

आइफोन की बिक्री 192 अरब डॉलर की
सितंबर में खत्म होने वाले कारोबारी साल में आईफोन की बिक्री 192 बिलियन डॉलर की रही थी, जो एक साल पहले की तुलना में लगभग 40त्न ज्यादा है। एपल अमेरिका में सबसे बड़ी टैक्सपेयर भी है। अप्रैल में कंपनी ने कहा था कि उसने बीते 5 साल में टैक्?स के रूप में 45 बिलियन डॉलर का पेमेंट किया है।