महारानी एलिजाबेथ द्वितीय को अंतिम विदाई, सम्राट चार्ल्स तृतीय ने किया भारतीय राष्ट्रपति का स्वागत,

37

 शेख हसीना से मिलीं द्रौपदी मुर्मू

लंदन। महारानी को आखिरी विदाई देने के लिए वेलिंगटन आर्च तक पैदल शव यात्रा निकाली जा रही है। ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का आज लंदन अंतिम संस्कार होना है। भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए लंदन पहुंची हैं। यहां ब्रिटेन के सम्राट चार्ल्स तृतीय ने भारतीय राष्ट्रपति का स्वागत किया। लंदन में द्रौपदी मुर्मू की मुलाकात बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से भी हुई है।

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का निधन बीते 8 सितंबर को हो गया था। सोमवार को उनके अंतिम संस्कार में भाग लेने के लिए दुनिया भर से राजनेता पहुंचे हैं। भारत की ओर से भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू भी अंतिम संस्कार में भाग लेने पहुंची। वहां पहुंचने पर महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के पुत्र और ब्रिटेन के सम्राट चार्ल्स तृतीय ने भारत की राष्ट्रपति का स्वागत किया। भारतीय राष्ट्रपति के आधिकारिक ट्विटर एकाउंट से राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और सम्राट चार्ल्स का चित्र ट्वीट किया गया है। इससे पहले राष्ट्रपति मुर्मू ने लंदन के लैंसेस्टर हाउस में शोक पुस्तिका पर हस्ताक्षर कर महारानी एलिजाबेथ को श्रद्धांजलि अर्पित की।

ब्रिटेन में महारानी के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू होने से पहले भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के बीच भी मुलाकात हुई। राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से इस मुलाकात की तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा गया कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और उनकी बहन शेख रेहाना से मुलाकात की। तस्वीर में द्रौपदी मुर्मू और शेख हसीना के साथ शेख रेहाना भी दिखाई दे रही हैं।

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का ताबूत महारानी विक्टोरिया मेमोरियल से गुजरते ही बकिंघम पैलेस के कर्मचारी इमारत के सामने जमा हो गए। महारानी का ताबूत वेलिंगटन आर्च पहुंच गया है। यहां परेड शाही सलामी देगी और रथ के विंडसर और महारानी के अंतिम संस्कार के लिए रवाना होने से पहले ब्रिटिश राष्ट्रगान बजाया जाएगा। इसके जाने के बाद किंग और क्वीन कंसोर्ट, वेल्स के राजकुमार और राजकुमारी और शाही परिवार के अन्य सदस्य कार से निकल जाएंगे। जुलूस निकलने के बाद वेस्टमिंस्टर में घंटियां बजेंगी।