जयपुर संभाग को ई-गर्वेनेंस सेवाओं में बनाना है अव्वल: संभागीय आयुक्त

10

जयपुर। जयपुर संभागीय आयुक्त डॉ. समित शर्मा ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जयपुर संभाग के समस्त जिलों में स्थापित ई-मित्र प्लस मशीन एवं ई-मित्र कियोस्क की उपयोगिता सुनिश्चित करने के निर्देश प्रदान करते हुये ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग की विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की। इसके साथ ही उन्होंने ठोस तरल कचरा प्रबंधन, प्रधानमंत्री आवास योजना, नरेगा, सम्पर्क पोर्टल, पेन्शन स्कीम पर विस्तार से चर्चा की। 

डॉ. शर्मा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संभाग के समस्त जिलों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, उपखण्ड अधिकारी, तहसीलदार, बीडीओ, ग्राम विकास अधिकारी, ई-मित्र कियोस्कधारी आदि से वर्तमान में ई-मित्र प्लस मशीन तथा ई-मित्र कियोस्क के सफल संचालन, रख-रखाव, आमजन को दी जा रही सुविधाओं के बारे में विस्तार से चर्चा की।  
गौरतलब है कि संभागीय आयुक्त ने पिछले माह जयपुर संभाग के पांच अलग-अलग जिलों में आवंटित सभी 2995 ई-मित्र प्लस मशीनों को इन्स्टॉल करने और उन सभी के निरीक्षण कराने के निर्देश प्रदान किये थे।

उन्होंने समस्त मशीनों को आमजन के उपयोग हेतु काम में लेने के निर्देश भी दिये थे इसकी अनुपालना में सूचना प्रौद्योगिकी विभाग एवं ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग ने सभी मशीनों को इन्स्टॉल कर दिया है इसके साथ ही 2621 ई-मित्र प्लस मशीनों के निरीक्षण व मरम्मत का कार्य भी पूर्ण हो गया है और कुल 2939 मशीनों के माध्यम से ट्रांजक्शन किया जाना भी सुनिश्चित किया है। 

डॉ. शर्मा द्वारा जयपुर संभाग में स्थापित कुल 2995 ई-मित्र प्लस मशीनों के निरीक्षण तथा जियो टैगिंग एवं उन पर किये जा रहे ट्रांजक्शन, की स्थिति की समीक्षा की गई। जिन जिलों में कमजोर स्थिति दिखी उनमें प्रगति लाने के लियेे निर्देशित किया गया तथा बेहतर कार्य करने वाले जिलों की सराहना की गई। चर्चा के दौरान श्री शर्मा ने अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदान किये।

शर्मा ने संबंधित अधिकारियों से कहा कि जयपुर संभाग को ई-गर्वेनेंस में अव्वल बनाना है इसके लिये सभी को समन्वय कर प्रयास किये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि ई-गर्वेनेंस आमजन के हित के लिये है और एक अच्छी गर्वेनेंस के लिये ई-गर्वेनेंस अहम कड़ी है, इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

साथ ही राजीव गांधी सेवा केन्द्र में लगी हुई ई-मित्र प्लस मशीन की उपयोगिता सुनिश्चित की जाये। श्री शर्मा ने पेन्शन स्कीम के तहत किये गये कार्यो के लिये अलवर जिले की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि सभी सीईओ एवं बीडीओ मासिक प्रगति रिपोर्ट कार्ड दे जिससे स्वस्थ प्रतिस्पर्धा बनी रहेगी तथा योजनाओं के बेहतर कियान्वयन के प्रयास किये जाने चाहिए।

संभागीय आयुक्त डॉ. शर्मा ने सभी अधिकारियों से कहा कि ई-मित्र प्लस मशीनों के संचालन एवं उपयोगिता के बारे में ग्राम सभा में आमजन को जानकारी दी जानी चाहिए तथा ई-मित्र कियोस्क एवं ई-मित्र प्लस पर उपलब्ध सेवाओं की जानकारी की सुनिश्चिता की जाए।

इसके साथ ग्राम विकास अधिकारियों को ई-मित्र प्लस मशीनों का नोडल अधिकारी नियुक्त करने हेतु ब्लॉक विकास अधिकारी को निर्देेशित किया गया एवं अन्य विभागों में स्थापित मशीनों के उपयोग हेतु उन विभागों के निजी कार्मिक का नोडल अधिकारी नियुक्त करने हेतु निर्देशित किया गया। प्रत्येक ई-मित्र कियोस्क के बाहर खुलने व बंद होने का समय सूचना पट्ट पर लिखा जाना आवश्यक है।

उन्होंने निर्देशित किया ई-मित्र कियोस्क के बाहर उन सेवाओं के नाम भी लिखे जाने चाहिए जिन सेवाओं की आमजन को उपलब्धता है। जिससे राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ आमजन तक पहुॅचे। श्री शर्मा ने इस अवसर पर ई-गर्वेनेंस के तहत अच्छा कार्य करने वाले कार्मिकों को प्रोत्साहन स्वरूव 15 अगस्त व 26 जनवरी पर ई-गर्वेनेंस अवार्ड से पुरस्कृत किये जाने की भी बात कही।