‘जो राम को लाये हैं, हम उनको लायेंगे….. ‘गीत से यूपी में छाये कन्हैया मित्तल

75

मुख्यमंत्री योगी ने खुद शॉल पहनाकर किया स्वागत

चण्डीगढ़। श्याम जगत के मशहूर गायक कन्हैया मित्तल द्वारा हाल ही में लिखा और गाया गया भजन ‘जो राम को लाये हैं, हम उनको लायेंगे‘ इन दिनों यूट्यूब, फेस बुक में खास हाइलाइट होने के साथ-साथ यूपी में भी पूरी तरह से छाया हुआ है। लोग बताते हैं कि यूपी में इस गीत की लोकप्रियता का आलम इस कदर है कि गली-नुक्कड़, चौराहे से लेकर शादी-विवाह तक में भी यह गीत डीजे पर बजाया जाने लगा है चुनावी माहौल में तो यह गीत जैसे एक चुनावी एजेंडे रुप में शामिल हो चुका है। तभी, न्यूज 18 पर बीते रविवार को उत्तर प्रदेश चुनावी ‘एजेंडा’ में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के साथ खास मुलाकात कार्यक्रम में इस गीत को लिखने तथा गाने वाले हरियाणा मूल के प्रवासी राजस्थानी गायक कन्हैया मित्तल को भी विशेष रुप से बुलाया गया।

कन्हैया मित्तल ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी के सामने भी यह गीत गाया और मुख्यमंत्री योगी ने उत्तरप्रदेश में इस गीत की लोकप्रियता की बात को स्वीकारते हुए न्यूज चैनल वालों की तरफ से पहनाये गये श़ॉल को कन्हैया मित्तल को पहनाकर उनका अभिनंदन किया। किसी राज्य के मुख्यमंत्री के द्वारा इस सम्मान को पाने के बाद कैसा लगा इस सवाल के जवाब पर कन्हैया मित्तल ने कहा कि कभी सोचा न था, मेरे द्वारा लिखे और गाये गये गीत को इस कदर लोकप्रियता मिलेगी। इस गीत को उत्तर प्रदेश के चुनाव को देखते हुए नहीं लिखा था। इसके पीछे मेरी सिर्फ सनातनी सोच रही है। यह तो मेरे आराध्य श्याम बाबा और कुल देवता सालासर वाले हनुमान की कृपा है जिन्होंने इस गीत को एक तरह से उत्तरप्रदेश के चुनावी एजेंडे में शामिल कर दिया।

छत्तीसगढ़ के रायपुर अंचल में प्रोग्रामों के सिलसिले में बराबर जाना होता है। जब भी वहां जाता हूं, वहां के रामजी के मंदिर में दर्शन करने जरुर जाता हूं। वहां के लोगों ने बताया कि इस मंदिर को बनाने में काफी विरोध का सामना करना पड़ा था। बस यही से मुझे इस गीत को लिखने की प्रेरणा मिली। किसी पार्टी विशेष का पक्षधर नहीं हूं। मेरी सोच सिर्फ इतनी ही है कि जो सनातन हित की बात करें, हम उनकी बात करें। मुख्यमंत्री योगीजी के द्वारा मुझे सम्मानित किये जाने पर बस इतना ही कहना चाहूंगा कि सनातनी हित चाहने वाले योगीजी ने सनातन की बात रखने पर मुझे सम्मानित किया।