कोरोना काल में भी प्रवासी राजस्थानी चुका रहे अपनी माटी का कर्ज

राजस्थान फाउंडेशन ने मुख्यमंत्री गहलोत के साथ प्रवासियों का करवाया वर्चुअल संवाद

आइये जाने, किसने किया कहा….

जयपुर। विदेशों मे बसे प्रवासी राजस्थानियों ने राजस्थान फाउंडेशन के मंच से प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से वर्चुअल संवाद किया। कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए फाउंडेशन के कमिश्रर धीरज श्रीवास्तव ने राजस्थान फाउंडेशन की स्थापना के पीछे उद्देश्य ओर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रदेश की बेहतरी के लिए किये जा रहे प्रयासों से सभी प्रवासियों को रूबरू करवाया।

धीरज श्रीवास्तव ने कहा, राजस्थानी प्रवासी राजस्थानियों को एक छत नीचे लाकर प्रदेश की संस्कृति से जोडऩे का एक बेहतरीन प्रयास है। राजस्थान फाउंडेशन ने सबको जोड़ा है, इस मंच के जरिये प्रवासियों ने एकता और मानवता का उदाहरण दिया है। साथ ही कोविड सहित समय समय पर मुश्किल समय में प्रदेश और देश की बेहतरी के लिए काम किया है।

ऑक्सीजन ऑन व्हील सेवा अपने हाथ में लें मुख्यमंत्री: कनक गोलिया

अमेरिका में बसे राजस्थानी प्रवासी व प्रसिद्ध परफ्यूम व्यवसायी कनक गोलिया अपनी तीसरी पीढ़ी के साथ प्रदेश की सेवा में जुटे हैं। गोलिया ने कहा कि इस कोरोना महामारी ने राजस्थान सरकर ने जो कार्य किये हैं वह सराहनीय हैं, यहां तक कि प्रधानमंत्री ने भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कार्यों की सराहना की है। इस महामारी में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बजट में भी कोई कमी नही की। हम प्रवासियों ने भी मुख्यमंत्री गहलोत के प्रयासों से प्रेरित होकर राजस्थान फाउंडेशन के सहयोग से यहां से 250 ऑक्सीजन कन्संट्रेटर पहुंचाने की एक पहल की। इसके अलावा ऑक्सीजन की कमी को लेकर भी एक बड़ी पहल ऑक्सीजन ऑन व्हील के बारे में कनक गोलिया ने बताया कि मेरे दोहिते निखिल मेहता ने हमें ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए एक सुझाव दिया। हमने उस सुझाव पर प्रयास शुरू किये तो यह ऑक्सीजन ऑन व्हील के रूप में सामने आया। अब यह वैन ग्रामीण इलाकों में जाकर ऑक्सीजन की कमी को पूरा कर रही है। इससे जुड़े और बेहतर प्रयास हम करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से ऑक्सीजन ऑन व्हील को अपने हाथ में लेकर आगे बढ़ाने की अपील की। गोलिया ने कहा कि यह सेवा प्रदेश की चिकित्सा सेवा में बड़ा कदम साबित होगी।

राजस्थान फाउंडेशन के सहयोग बिना ऑक्सीजन ऑन व्हील का लक्ष्य अधूरा रहेगा: निखिल मेेेहता

ऑक्सीजन की कमी को पूर्ति करने वाली ऑक्सीजन ऑन व्हील वैन को आइडिया देने वाले अमेरिका में राजस्थान मूल के युवा निखिल मेहता भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से रूबरू हुए। इस दौरान उन्होंने ऑक्सीजन ऑन व्हील को लेकर मुख्यमंत्री से अपने विचार और अनुभव साझा किये। निखिल मेहता ने कहा कि ऑक्सीजन ऑन व्हील एक मिशन के रूप में आगे बढ़ रहा है और इसको अमलीजामा पहनाने में मेरे नाना कनक गोलिया जी और प्रेम भंडारी जी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। ऑक्सीजन ऑन व्हील जोधपुर के ग्रामीण इलाकों में जरूरतमंदों को ऑक्सीजन पहुंचानेे का काम कर रही है। इसका डिजायन बिल्कुल नई तकनीक के साथ किया गया है। यह हर परिस्थितियों के प्रतिकुल काम करने में सक्षम है। निखिल मेहता ने आगे कहा कि लेकिन, यह राजस्थान सरकार और राजस्थान फाउंडेशन की मदद के बिना संभव नहीं था। अब इसको आगे ले जाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और राजस्थान फाउंडेशन का सहयोग बहुत जरूरी है। क्योंकि, यह आपके सहयोग के बिना अपने लक्ष्य तक पहुंच नहीं पाएगा।

मारवाड़ी युवा मंच की 657 शखाओं द्वारा जारी हैं सेवा कार्य: कपिल लखोटिया

अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष कपिल लाखोटिया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से वर्चुअल माध्यम से संवाद कार्यक्रम से जुड़े। कपिल लाखोटिया ने मुख्यमंत्री को बताया कि अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच विश्वभर के 18 से 45 वर्ष के 45 हजार युवाओं से जुड़ा हुआ बड़ा संगठन है। लखोटिया ने आगे बताया कि अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच का उद्देश्य ऐसे मारवाडिय़ों को जोडऩा है जो राजस्थान, हरियाणा और मालवा में बसते हों और वह कही ना कहीं मारवाड़ी संस्कृति को अपनाए हुए हैं। लखोटिया ने बताया कि 36 वर्ष पुराने इस मंच की चार देशों में और भारत के 30 राज्यों में 657 शखाएं हैं। हमारी संस्था रक्तदान में बड़ा काम करती है और हर साल रक्तदान शिविर के जरिये एक लाख यूनिट ब्लड जरूरतमंदों के लिए इकट्ठा करती है। इसके अलावा कैंसर डिटेक्शन वैन के जरिये हम अब तक पांच लाख कैंसर रोगियों का डिटेक्शन कर चुके हैं। भारत में दस हजार अमृत धारा प्याऊ के जरिये जलसेवा की जा रही है।  लखोटिया ने इस मौके पर मंच द्वारा पूरे देश व राजस्थान प्रदेश में अलग-अलग शाखाओं के माध्यम से कोरोना काल में युवा मंच द्वारा किये जा रहे उल्लेखनीय कार्यों व सहयोग से भी अवगत कराया। 

राजस्थान फाउंडेशन के सहयोग के बिना जरुरतमंद को मदद पहुंचाना असंभव: दिनेश कोठारी

यूएई में बसे प्रवासी राजस्थानी दिनेश कोठारी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से संवाद करते हुए कहा कि हमें इस बात की खुशी है कि हम मुश्किल समय में अपनी मातृभूमि के लिए कुछ कर पा रहे हैं। हमने दो कंटेनर लिक्विड ऑक्क्सीजन टैंकर, 315 कंंसंट्रेटर नाथूद्वारा ट्रस्ट द्वारा 272 कंंसंट्रेटर चाइना से भेजने का एक छोटा प्रयास सा किया है। लेकिन यह सब राजस्थान फाउंडेशन के सहयोग के बिना संभव हो पाना बड़ा मुश्किल है क्योंकि, यह सब मदद राजस्थान फाउंडेशन के मंच से जरूरत की जगह ही पहुंचाई जाती है। कोठारी ने आगे कहा कि इन सेवा कार्यों से और लोग भी अपने प्रदेश के लिए कुछ करने के लिए प्रेरित हों यही हमारा मकसद है।

राजस्थान की सेवा करने के लिए हमेशा तैयार हूं : नंदी मेहता

प्रदेश में बड़े स्तर पर कन्संट्रेटर ओर वेंटीलेटर को लेकर मदद पहुचाने वाली संस्था अमेरिका इंडिया फाउंडेशन और एसीटी से जुड़े नंदी मेहता ने मुख्यमंत्री से वर्चुटल संवाद करते हुए कहा कि इस संस्था के सहयोग से प्रदेश की हैल्थकेयर इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के प्रयास किये जा रहे हैं। हम भले ही दूर हैं लेकिन अपनी मातृभूमि की सेवा के लिए हमेशा तैयार हैं। उन्होंने एक कविता के साथ अपनी बात पूरी की।

राजस्थान से दूरी बहुत है मगर
पास रहकर ही कोई खास नहीं होता
आप इस कदर पास हो हमारे
हमें दूरी का एहसास नहींं होता

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की दूरदर्शी सोच काम आई: प्रवीण मेहता

दुबई में बसे राजस्थानी प्रवासी प्रवीण मेहता ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से वर्चुअल कार्यक्रम के जरिये संवाद किया। प्रवीण मेहता ने कहा कि राजस्थान फाउंडेशन एक ऐसा मंच है जो हमें अपनों के बीच लेकर आया है। हमें उनको और उन्हें हमें जानने का मौका मिला है। मेहता ने कोविड के खिलाफ किये जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि मैंने भी आपके सराहनीय कार्यों को प्रेरणा बनाकर एक पहल की है। इस पहल में आपकी दूरदर्शी सोच और राजस्थान फाउंडेशन जैसे मंच से मुझे बड़ा बल मिला। मेहता ने बताया कि मैंने ऐसे वृद्ध माता-पिता के लिए जयपुर मेंं 120 घर बनाने की पहल की है जिनके बच्चे विदेशों काम काज के लिए रहते हैं, उनके माता-पिता को घर जैसा आराम देने के लिए अपना घर परियोजना शुरु की जा रही है। जिसमें उन्हें अपनों से दूर रहने का एहसास बिल्कुल नही होगा और उन्हें हर आराम मिलेगा। साथ ही उन्होंने राजस्थान फाउंडेशन का अपने बुजुर्ग माता-पिता के लिए दवाएं उपलब्ध करवानेे के लिए भी धन्यवार ज्ञापित किया। प्रवीण मेहता ने अपनी बात खत्म करते हुए राजस्थान फाउंडेशन के लिए कहा कि वी आर राइजिंग इन लव थ्रू राजस्थान फाउंडेशन

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ओर राजस्थान फाउंडेशन का सराहनीय प्रयास है डोरी: डॉ. रोमित पुरोहित

दुबई में बसे जोधपुर के डॉ. रोमित पुरोहित ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से संवाद कार्यक्रम में राजस्थान फांउंडेशन के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि पूरे विश्व में राजस्थान के डॉक्टर अपनी सेवा दे रहे हैं। डॉ. रोमित ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को बताया कि आपके द्वारा स्थापित राजस्थान फाउंडेशन के प्रयासों के कारण ही राजस्थान प्रवासी सभी डॉक्टर डॉक्टर ऑफ इंटरनेशन राजस्थान (डोरी) के मंच पर एक साथ आए हैं। आपकी पहल और राजस्थान फाउंडेशन के कमिश्रर धीरज श्रीवास्तव के प्रयासों के कारण इस संगठन की स्थापना हुई है। डोरी से विदेशों में सेवा दे रहे प्रवासी राजस्थानी डॉक्टर जुड़े हैं। प्रवासी राजस्थानी डॉक्टर अब अपनी मातृभूमि की सेवा में जुटे हैं। इसके अलावा डॉ.पुरोहित ने मुख्यमंत्री के सामने अपने सुझाव रखते हुए कहा कि हमें हैल्थ एजूेकशन के लिए चैप्टर अैर क्लासेज श्ुारु करनी चहिए। इसके अलावा कोविड सेल की स्थापना भी करनी चाहिए जिसके जरिये मेंटल हैल्थ अैर चाय हैल्थ एजूकेशन केा प्रमोट करना चाहिए। इसके अलावा इंटरनेशनल मेडिकल एडवाजयरी बोर्ड की स्थापना होनी चाहिए ताकि विदेश इलाज करवाने के लिए जाने वाले राजस्थानियों को इसका फायदा मिल सके। उन्होंने कहा कि डोरी मुख्यमंंत्री अशोक गहलोत और राजस्थान फाउंडेशन के सराहनीय प्रयासों में से एक है। डॉ. पुरोहित ने अपनी खत्म करते हुए एक कविता भी सुनाई

आओ आपां डोरी सूं बंध जावां
इण जग म राजस्थान को मान बढ़ावां
बिखरया है जगह जगह राजस्थानी डॉक्टर
इण धरती का कूणा कूणा पर
आओ आपां एक सूत में पिरोहित जावां
प्रेम सूंं मिला एक दूजे न इयां लाग्या
जय डोरी जय राजस्थान

कनाडा आने वाले राजस्थानी छात्रों की मदद के लिए एक मजबूत प्लेटफॉर्म तैयार करने की जरूरत: सुराणा

कनाडा में बसे राजस्थानी प्रवासी क्रिस सुराणा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से संवाद करते हुए कहा कि राजस्थान फाउंडेशन ने हमेशा से ही राजस्थानी प्रवासियों की मदद के लिए तैयार रहता है। कृष्णा ने बताया कि हमने राजस्थान फाउंडेशन की मदद से पूरी दुनिया में फैले प्रवासी राजस्थानियों का डेटा एकत्रित किया जा रहा है कि ताकि सभी को एक साथ लाया जा सके। इसके अलावा उन्होंने मुख्यमंत्री के सामने राजस्थान से आने वाले छात्रों के लिए कनाडा में एक प्लेटफॉर्म तैयार करने का सुझाव रखा। सुराणा ने कहा कि राजस्थान से आने वाले छात्र-छात्राओं को हरसंभव मदद मिले ताकि उन्हें किसी प्रकार की मदद के लिए भटकना नहीं पड़े। इस प्लेटफॉर्म के जरिये उन्हें शिक्षा, रहन-सहन जैसी हर सुविधा दिलवाने में आसानी हो सके। उन्होंने अपना उदाहरण देते हुए कहा कि जब मैं यहां पच्चीस साल पहले यहां आया था तो मुझे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मैं चाहता हूं कि जैसे समस्याएं मुझे पेश आईं वह दिक्कतें हमारी आने वाली पीढिय़ों को ना उठानी पड़े।

प्रवासी देश और मातृभूमि के बीच सेतु बनाने का काम कर रहा है राजस्थान एसोसिएशन यूके: भावना शर्मा

राजस्थान एसोसिएशन यूके का काम देख रहीं भावना शर्मा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथा वर्चुअल संवाद कार्यक्रम में बताया कि राजस्थान फाउंडेशन एक ऐसा मंच है जिसके जरिये हम दूर रहकर अपने लोगों से जुड़े हुए हैं। राजस्थान फाउंडेशन की मदद से ही राजस्थान एसोसिएशन यूके ने कोविड महामारी के दौरान लोगों की मदद के लिए हरसंभव प्रयास किये हैं। हमने कोविड के दौरान ऐसे लोगों को एक मंच पर लाने का काम किया जो इस बीमारी से पीडि़त हुए और जिन्होंने अपनों को खोया है। एक ऑनलाइन मंच के माध्यम से उनको संबल देने का काम किया। इसके अलावा लॉकडाउन मेंं समय समय पर सांस्कृतिक कार्यक्रम कर लोगों प्रवासियों का उत्साह बढ़ाया ताकि इस महामारी के दौर में लोग तनाव में ना आएं। ऐसे कई कदम उठाकर हम अपने लोगों की मदद कर रहे हैं। इसके अलावा हम राजस्थान फाउंडेशन के सहयोग सेप्रवासी देश और अपनी मातृभूमि के बीच एक सेतु बनाने का काम भी कर रहे हैं।

राजस्थानी प्रवासियों की भावनाएं हमारे लिए बहुत महत्व रखती हैं: अशोक गहलोत

वर्चुअल संवाद में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रवासी राजस्थानी का योगदान प्रदेश के लिए बहुत ही सराहनीय है। आपकी सेवा ने साबित कर दिया कि आपको अपनी मिट्टी से कितनी मोहब्बत है। आप सबके कार्यों को मैं देखता हूं तो गर्व होता है कि दूर दराज बैठे हमारे अपने मुश्किल समय में हमारे साथ हैं। पूरी दुनिया के विभिन्न देशों में बसें राजस्थानियों ने हर तरीके से प्रदेश की मदद की है। ऑक्सीजन से लेकर वेंटीलेटर और कंसंट्रेटर सभी तरह से प्रवासियों ने प्रदेश के अस्पतालों में अपने स्तर पर मदद पहुंचाई है। हमारे लिए आपकी भावनाएं बहुत ही महत्व रखती हैं, और इस बात को साबित करती हैं कि आप में अपनी मातृभूमि की सेवा करने का जज्बा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पिछले साल भर से ज्यादा हम कोरोना से लड़ रहे हैं जिसमें आप लोगों का सहयोग अतुल्य है। मुख्यमंत्री ने कोविड के खिलाफ लड़ाई में किये जा रहे प्रयासों पर रोशनी डाली ओर चिरंजीवी योजना, वैक्सीनेशन पर किये जा रहे कामों के बारे में बताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह समय एक होकर इस महामारी के खिलाफ लडऩे का है, यह लड़ाई हमने अब तक एक होकर लड़ी है। इसमें आप लोागें ने एक भी बड़ी मिसाल पेश की है।