कोरोना संक्रमण के कारण फिलीपींस ने 21 हजार कैदियों को रिहा किया

7

दुनिया में हर दिन करीब दो लाख नए केस मिल रहे, ठीक होने वाले मरीजों का आंकड़ा भी एक लाख

मनीला। दुनिया में कोरोनावायरस के अब तक 1 करोड़ 50 लाख 91 हजार 817 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें 91 लाख 10 हजार 153 ठीक हो चुके हैं, जबकि 6 लाख 19 हजार 409 की मौत हो चुकी है। दुनियाभर में अभी 63,785 मरीजों की हालत गंभीर है। फिलीपींस ने संक्रमण के खतरे को देखते हुए देश की जेलों से 21 हजार से कैदियों को रिहा किया है। सरकार के सेक्रेटरी इडुआर्डो एनो ने बुधवार को इसकी जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि 17 मार्च से 13 जुलाई के बीच इन कैदियों को देश की 470 जेलों से रिहा किया गया। फिलीपींस की जेलों में कैदियों की संख्या जरूरत से ज्यादा होने की वजह से संक्रमण फैलने का खतरा था।

नेपाल सरकार ने बुधवार से लॉकडाउन से जुड़ी पाबंदियां खत्म कर दी। यहां 24 मार्च को लॉकडाउन का ऐलान किया गया था। नेपाल सरकार के प्रवक्ता युबराज खाटीवाडा ने कहा, अब हमें और ज्यादा लॉकडाउन में रहने की जरूरत नहीं है। लोगों में इससे से डर पैदा हो गया है, इसलिए हमने इसे खत्म करने का फैसला किया है। हालांकि संक्रमण के खतरे को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, मास्क लगाना और सैनिटाइजर का इस्तेमाल जारी रखना होगा।

बोलिविया-गलियों और घरों से 400 लाशें बरामद

बोलिविया में पुलिस ने पांच दिन में गलियों और घरों से 400 लाशें बरामद की हैं। नेशनल पुलिस डायरेक्टर इवाल रोजेस के मुताबिक, इनमें से 85 प्रतिशत (करीब 340) की संक्रमण से मौत का शक है।

बाकी की बीमारी और दूसरे कारणों से हुई। यहां के चोचाबांबा इलाके से 191, ला पाज से 14 और सैंटा कू्रज से 68 शव मिले। इन दोनों इलाके में बीते हफ्ते से संक्रमण के मामले तेजी से बड़े हैं। सभी मृतकों की पहचान की जा रही है।

ट्रम्प ने कहा- वैक्सीन बनाने के लिए चीन के साथ काम करने को तैयार

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि कोरोना का वैक्सीन पहले लाने के लिए मेरी सरकार चीन समेत किसी भी देश के साथ काम करने के लिए तैयार है। ट्रम्प ने मंगलवार को वैक्सीन बनाने के लिए चीन के साथ साझेदारी के बारे में पूछे जाने पर यह बात कही। उन्होंने कहा कि हम वैक्सीन तैयार करने के लिए अच्छा काम कर रहे हैं। इसके उम्मीद से बहुत पहले आने की संभावना है। यह लोगों तक तुरंत पहुंचाई जाएगी क्योंकि अमेरिकी सेना इसे बांटने में मदद करेगी।