लंदन में मिर्ची बड़ा फेस्टिवल की धूम

32
File photo: Mirchi Bada Festival in London
File photo: Mirchi Bada Festival in London

राजस्थान एसोसिएशन यूके के इस फेस्ट में प्रवासियों के साथ विदेशी भी लेते हैं जोधपुरी मिर्ची बड़े का स्वाद

लंदन/जयपुर। इंग्लैंड में बसे राजस्थानी प्रवासियों की एसोसिएशन राजस्थान एसोसिएशन यूके परोपकारी और सांस्कृतिक कार्यक्रम करने में अग्रणी संस्था है। एसोसिएशन की ओर से हर वर्ष की भांति इस बार भी लंदन में मिर्ची बड़ा फेस्ट (फेस्टिवल) आयोजित किया जा रहा है। शुरुआती कोविड काल में एसोसिएशन ने महामारी के तनाव से लोगों को उबारने के लिए यह पहल की थी। यह पहल काफी सफल रही और राजस्थान एसोसिएशन यूके हर वर्ष यह आयोजन कर रहा है। राजस्थानी मिर्ची बड़ा व्यंजन राजस्थान के साथ साथ पूरे भारत में काफी प्रचलित है। राजस्थान से 4500 मील दूर रहते हुए भी इस व्यंजन को राजस्थानी नहीं भूलते हैं और मिर्ची बड़ा फेस्ट द्वारा विदेशियों की जुबान तक इसका स्वाद पहुंचाने में भी राजस्थान एसोसिएशन यूके ने बड़ी भूमिका निभाई है। इस फेस्ट के माध्यम से प्रवासी राजस्थानियों ने जोधपुर के स्वादिष्ट मिर्ची बड़े का स्वाद लिया। पिछले साल इंग्लैंड में लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद मिर्ची बड़ा फेस्ट का आयोजन किया गया था। यह आयोजन राजस्थानियों के साथ-साथ विदेशों के लिए आकर्षण ओर स्वाद का केंद्र बन गया है। इसकी सफलता को देखते हुए एसेासिएशन ने फिर से इसके आयोजन की तैयारी शुरु कर दी है। इस आयोजन को राजस्थान एसोसिएशन यूके ने अपने फेसबुक पेज पर लाइव भी किया था। इसके अलावा सेकड़ो राजस्थानी परिवारों मैं इससे रजिस्ट्रेशन कराया।

File photo: Mirchi Bada Festival in London

कोविड काल में सेवा कार्यों से जीता दिल

कोविड-19 काल में एसोसिएशन ने अपनी मातृभूमि के साथ लंदन (इंग्लैंड) वासियों की मदद करने में भी कोई कमी नहीं छोड़ी। राजस्थान एसोसिएशन यूके ने लगभग 3,950 से ज्यादा खाने की टिफिन और 400 से ज्यादा राशन सामग्री (20 किलो-दाल, चावल, आटा , पास्ता, आलू , प्याज़ , बिस्किट और मसाले) के थैले ज़रुरतमंदो को जैसे विद्यार्थी , कोरोना से संक्रमित परिवार, वृद्धाश्रम और अस्पताल में वितरीत किये तथा इसी के साथ कम्युनिटी को व्यस्त रखने के लिए राजस्थानी कलाकार कवि, गायक, लेखक इत्यादि के लाइव शो एसोसिएशन के फेसबुक, यूट्यूब पेज पर शुरु किये। राजस्थानी बच्चों के लिए संस्कृत, हिंदी एवं राजस्थानी भाषा की नियमित ऑनलाइन सेशंस शुरू किये है।