राजस्थान में 23-24 जनवरी को बारिश का अलर्ट

48
राजस्थान में सर्दी
बीकानेर में झाड़ियों पर ओस की बूंदें जमने के बाद बर्फ की झाड़ियों जैसी नजर आईं।

उदयपुर में 12 साल में सबसे ठंडी रात, 6 से ज्यादा शहरों में जमा पाला

जयपुर। राजस्थान में बर्फ जमाने वाली सर्दी जारी है। चूरू, सीकर, बीकानेर, जयपुर समेत कई जिलों के ग्रामीण अंचलों में कड़ाके की सर्दी से खेतों में बर्फ जम गई। पाला खेतों में ही जम गया। मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक कड़ाके की सर्दी का यह दौर अगले 2 दिन और रहेगा। उदयपुर में तो ठंड ने 12 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया।

19 जनवरी से मौसम में बदलाव आएगा और तापमान बढऩे लगेगा। तब लोगों को शीतलहर और कड़ाके की सर्दी से राहत मिलने के आसार हैं। मौसम विभाग ने 23-24 जनवरी को एक बड़ा सिस्टम बनने की संभावना है, जिससे राजस्थान के कई हिस्सों में बारिश हो सकती है।

आज के मौसम की बात करें तो जयपुर के जोबनेर, सीकर के फतेहपुर, के अलावा माउंट आबू, चूरू में तापमान माइनस में दर्ज किया गया। माइनस 6 डिग्री सेल्सियस के साथ माउंट आबू सोमवार को सबसे ठंडा रहा। यहां कल तापमान इससे भी ज्यादा ठंडा -7 डिग्री सेल्सियस रहा था।

माउंट में दूसरे दिन भी मैदानी और पहाड़ी इलाके बर्फ से ढके नजर आए। जयपुर के जोबनेर में पारा आज माइनस 4.2 और सीकर के फतेहपुर में -3.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। इन दोनों ही शहरों में लगातार दूसरे दिन पारा माइनस में दर्ज हुआ है। जयपुर शहर में जोबनेर के अलावा दूसरे आसपास के ग्रामीण इलाकों में भी पारा जमाव बिंदु पर दर्ज हुआ, जिसके चलते यहां खेतों में बर्फ जम गई।

सर्दी
सीकर में फतेहपुर के गांव साझासर में स्थित एक खेत में पेड़ पर जमी बर्फ।

चूरू में आज भी दूसरे दिन पारा -2.5 डिग्री पर दर्ज हुआ। इन जिलों के अलावा बीकानेर, गंगानगर, झुंझुनूं में भी ग्रामीण इलाकों में पारा जमाव बिंदु के नजदीक पहुंच गया। यहां खेतों में ओस की बूंदें बर्फ में तब्दील नजर आईं। पेड़ों और खेतों पर लगी बाड़ पर ओंस जम गई, जो दिखने में किसी कांच के झूमर की तरह दिखाई दी।

अलवर, भीलवाड़ा में जमी बर्फ, पारा जीरो पर पहुंचा

सर्दी
जैसलमेर के पोकरण में सर्द हवा और शीतलहर ने लोगों का बुरा हाल कर दिया है। इसके चलते फसलों पर ओस जमकर बर्फ बन गई।

सीकर, चूरू, माउंट आबू के अलावा आज अलवर, भीलवाड़ा में भी तापमान जमाव बिंदु पर दर्ज हुआ। यहां न्यूनतम तापमान 0 पर पहुंच गया, जिससे यहां भी मैदानों और खेतों में बर्फ जम गई। इधर, सीकर शहर में आज पारा -2 डिग्री सेल्सियस पर दर्ज हुआ। सीकर में ये सीजन का सबसे कम तापमान रहा है। इससे पहले सीकर में 5 जनवरी को -1.5 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज हुआ था।

उदयपुर में 12 साल में जनवरी की सबसे सर्द रात

सर्दी
फतेहपुर में पत्थर पर बर्फ जम गई तो यह बर्फ के गोले की तरह नजर आई।

झीलों की नगरी उदयपुर में आज सर्दी का नया रिकॉर्ड बना है। यहां पिछले 12 साल में जनवरी का सबसे कम तापमान रिकॉर्ड हुआ है। बीती रात उदयपुर का न्यूनतम तापमान 2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जो पिछले 12 साल में सबसे कम तापमान रहा। इससे पहले जनवरी 2017 में उदयपुर में न्यूनतम तापमान 2.2 डिग्री सेल्सियस रहा था। इसके अलावा आज अजमेर में न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जो जिले में इस सीजन का सबसे कम तापमान रहा। इससे पहले अजमेर में कल तापमान 4.4 डिग्री सेल्सियस था।

स्कूलों में समय बदला

सर्दी
अजमेर के खेतों में भी पौधों पर सर्दी से बर्फ जम गई।

तेज सर्दी को देखते हुए जिला शिक्षा अधिकारी ने कल एक आदेश जारी कर जयपुर में स्कूलों के समय में बदलाव किया है। आदेशों के मुताबिक अब सभी स्कूलों में बच्चों को सुबह 10 से बुलाने के आदेश दिए है। ताकि अलसुबह तेज सर्दी में बच्चों को परेशानी न हो। जयपुर कलेक्टर से मिले निर्देश के बाद कल ये आदेश जारी किए गए।

19 जनवरी से मिलेगी सर्दी से राहत

सर्दी
जयपुर में जोबनेर के पास कालख में कपड़े की बोरी की ऊपर जमी बर्फ।

राजस्थान को अभी इस तेज सर्दी का सितम अगले दो दिन 17 और 18 जनवरी को झेलना पड़ा सकता है। इन दो दिन भी पारा जमाव बिंदु के आसपास बना रह सकता है। 18 जनवरी की शाम से मौसम में बदलाव आएगा और पश्चिमी राजस्थान के जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर बेल्ट में तापमान बढ़ेगा और वहां लोगों को सर्दी से राहत मिलेगी। इसके पीछे कारण एक फ्रेश वेस्र्टन डिस्टर्बेंस का एक्टिव होना है। इस सिस्टम के असर से 19 व 20 जनवरी को उत्तर भारत के जम्मू-कश्मीर, हिमाचल, लद्दाख एरिया में बारिश के साथ बर्फबारी होगी। इस सिस्टम का असर 21 जनवरी तक रहेगा।

23 से राजस्थान में हो सकती है बारिश

23 जनवरी को एक बड़ा सिस्टम राजस्थान, मध्य प्रदेश, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दिल्ली के आसपास एक्टिव हो सकता है। अगर ये सिस्टम एक्टिव होता है तो इससे राजस्थान के कई हिस्सों में 23-24 जनवरी को मावठ हो सकती है। इस सिस्टम का असर भी 25-26 जनवरी तक रहने की उम्मीद है। 26 जनवरी से राजस्थान में मौसम साफ होने लगेगा।

यह भी पढें़ : विटामिन-सी का खजाना है सर्दियों का ये फल