राजस्थानी युवा समिति के आयोजन ‘हेलो मयाड़ भाषा रौ’ में उमड़ा युवाओं का हुजूम

299

5000 ने ली राजस्थानी को राजभाषा बनाने की शपथ

राजस्थान में मायड़ भाषा को राजभाषा का दर्जा दिलवाने के लिए…

Rajasthani bhasha

जयपुर। राजस्थान में मायड़ भाषा को राजभाषा का दर्जा दिलवाने के लिए राजस्थानी युवा समिति ने पूरे प्रदेश भर में जागरूकता अभियान चला रखा है। उसी के तहत जयपुर के जवाहर कला केंद्र में युवाओं में जागरूकता का जोश भरने के लिए राजस्थानी युवा समिति की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के प्रमुख सलाहकार एवं इतिहास के अध्यापक राजवीर सिंह चलकोई की अध्यक्षता में डॉ शारदा कृष्ण, डॉ. घनश्याम नाथ कच्छावा, बनवारी लाल गोस्वामी, पंकज सोनी, प्रियंका दवे, म्यूजिक परम्, इसरार लाडनूं, अरविंद जाजड़ा, लक्ष्यराज लुहारिया, पराक्रम राठौड़, रक्षा राजपुरोहित आदि राजस्थान के साहित्य, कला एवं सोशल मीडिया जगत के सितारे उपस्थित रहे।

Rajasthani

बोलियां अलग-अलग मगर भाषा एक

समिति के उपाध्यक्ष प्रवीण मकवाणा ने राजस्थानी युवा समिति के अब तक कार्यो का ब्यौरा पेश किया एवं राजभाषा बनाने में समिति किस तरह आगे बढ़ रही है इसकी जानकारी युवा सदस्यों को दी, इस कार्यक्रम का संचालन अलग अलग प्रदेश की बोलियों में हुआ, इससे समिति ये साबित करना चाहती है कि सभी जगह अलग अलग बोलियां बोली जाती है परंतु भाषा एक ही है राजस्थानी, डॉ शारदा कृष्ण ने राजस्थानी को मान्यता क्यों मिलनी चाहिये इस पर बात की, साहित्यकार डॉ घनश्याम नाथ कच्छावा ने राजस्थानी परम्परा एवं साहित्य समृद्ध है बस मान्यता मिले तो राजस्थानी का संरक्षण हो सकेगा।

Rajasthani

राजस्थान ने सम्मान दिलवाया

बनवारी लाल एवं पंकज ने बताया राजस्थानी में बनाया कंटेंट कैसे उन्हें घर घर तक ले गया, प्रियंका दवे (मारवाड़ी उडऩपरी) ने बताया एयरहोस्टेस एक्ट्रेस का टैग उन्हें वो सम्मान नहीं दिलवा पाया जो राजस्थानी में बनाये गये कंटेंट ने पूरे राजस्थान में दिलवाया, म्यूजिक परमेन ने राजस्थानी भाषा के अपने वायरल गीत लाइने सुनाकर खचाखच भरे ओपन स्टेज के युवाओं में जोश भर दिया।

Rajasthani bhasha

ओ राजस्थान है प्रधान…

इस राज लाडनू नै अपने डायलॉग ‘ओ राजस्थान है प्रधानÓ से खूब वाह वाही लूटी, छात्रनेता शुभम ने राजस्थानी की कविता पढ़ कर आंदोलन में हर राजस्थानी को जुडऩे का आह्वान किया, संजय बिर्ख लोक गीतकार ने राजस्थानी लोकगीतों से समा बांध लिया, अंत में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे राजवीर सिंह चलकोई ने अपने संबोधन में युवाओ को भाव विभोर कर दिया, उत्साहित युवा जै राजस्थान जै राजस्थानी के नारे लगाने लगे अंत में संस्थापक हिमान्शु शर्मा ने जयपुर टीम को इस भव्य आयोजन के लिये धन्यवाद देते हुए सभी से आने वाले विधानसभा सत्र में राजभाषा बनाने के लिए सरकार पर दबाव बनाने की बात कही।

गौरतलब है कि राजस्थानी युवा समिति मुख्यमंत्री को ज्ञापन दे चुकी है और मुख्यमंत्री ने अपने वक्तव्य एवं ट्वीट के माध्यम से पुष्टि की है कि गुजरात इलेक्शन के बाद इस मुद्दे पर राजस्थानी युवा समिति को बैठक के लिये बुलाया जायेगा।

Rajasthani hello

राजस्थानी युवा समिति के सचिव अरविंद जोशी एवं सह सचिव अविनाश पुरोहित ने अभिषेक, रौहन, दिलीप, लोकेंद्र, शुभम, जगदीश, धवल, नेमीचंद, राजेन्द्र एवं समस्त जयपुर पदाधिकारियों के अथक प्रयासों को सराहते हुए कहा की इस आयोजन को राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिये हुए अब तक के सबसे विशाल आयोजन की श्रेणी में रखा जायेगा। ओपन स्टेज में उपस्थित युवाओं ने राजस्थानी को राजभाषा बनाने की शपथ ली। राजस्थानी युवा समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता नेमीचंद ने बताया ये आयोजन राजस्थानी भाषा के आंदोलन में एक बड़ा पड़ाव साबित होगा।

यह भी पढ़ें : देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के अनमोल विचार